मजदूरों की सुरक्षा के लिए बने नियमों की उड़ रही हैं धज्जियां

दूसरों के छत का सपना साकार करने वाले मजदूर दो वक्त की रोटी में ही खुश रहते हैं, लेकिन उनकी सुरक्षा को लेकर कोई खास इंतजाम नहीं किए जाते। वे जान जोखिम में डाल काम करने को मजबूर हैं। इस समस्या पर हमारी संवाददाता ऐश्वर्या गुप्ता ने जानी लखनऊवाईट्स की राय…

capture

Pin It