मंत्री गायत्री के कालेधन पर 4पीएम के खुलासे के बाद देश भर में मचा हंगामा, गिरफ्तारी की मांग

  • 4पीएम ने छापा तो रोडवेज के टिकटों के पैसों से कालेधन को सफेद करने में घिरे परिवहन मंत्री
  • भाजपा, आप समेत विपक्षी दलों ने बनाया निशाना, गिरफ्तार करने की मांग
  • नौ नवंबर से पूर्व व उसके बाद सरकारी विभागों के पास मौजूद नोटों के आंकड़े सार्वजनिक करने की भी मांग

114पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। प्रदेश सरकार के परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति द्वारा रोडवेज के टिकटों से मिले पैसों से अपना कालाधन सफेद करने के 4पीएम के सनसनीखेज खुलासे के बाद देश भर में हंगामा मच गया है। विपक्ष ने इस मामले पर सरकार को घेरा है। भाजपा और आम आदमी पार्टी ने इस मामले की सीबीआई जांच कराने और गिरफ्तारी की मांग की है। गौरतलब है कि खुलासे के बाद मंत्री गायत्री द्वारा किया गया कारनामा मीडिया जगत में सुर्खियों में है। देश के सभी बड़े हिन्दी और अंग्रेजी अखबारों ने गायत्री की गिरफ्तारी की मांग को प्रमुखता से छापा और कई चैनलों ने कल 4पीएम के संपादक संजय शर्मा को आमंत्रित करके कालेधन पर चर्चा की।
प्रदेश सरकार के सबसे भ्रष्टï मंत्री कहे जाने वाले परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति का एक और कारनामा सामने आया है। गायत्री के द्वारा केंद्र सरकार द्वारा पांच सौ व हजार की नोटों को बंद किए जाने के बाद अपने काले धन को सरकारी पैसे से सफेद करने का खुलासा होने के बाद हंगामा मच गया है। मंत्री की इस करतूत का पर्दाफाश राजधानी के 4पीएम ने किया है। इसके बाद से मंत्री की गिरफ्तारी की मांग उठने लगी है। आम आदमी पार्टी ने मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति को गिरफ्तार करने की मांग की है।
प्रदेश सरकार में पूर्व में खनन मंत्री रहने के दौरान गायत्री प्रसाद प्रजापति पर भ्रष्टïचार के तमाम आरोप लगे। इसके बाद उनसे खनन महकमा छीनकर उन्हें परिवहन विभाग दे दिया गया। पांच सौ और हजार की नोट बंद होने के बाद मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति ने परिवहन विभाग में किराए के रूप में आ रहे छोटे नोट सौ व पचास रूपए को एकत्र कर उनके आवास पर लाने के बाद इसके एवज में यहां रखे पांच सौ व हजार के नोटों को ले जाकर जमा कराने की तरकीब निकाली। 4पीएम में खबर छपने से देश भर में यह मुद्दा चर्चा का विषय बन गया। आप के प्रवक्ता वैभव माहेश्वरी ने तत्काल प्रेस कांफ्रेंस करके गायत्री की गिरफ्तारी की मांग की। भाजपा प्रवक्ता आईपी सिंह ने भी प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर इस मामले की सीबीआई जांच का अनुरोध किया। सोशल मीडिया पर भी 4पीएम की खबर छा गई और हजारों लोगों ने इसको लाइक किया और खबर शेयर करके ट्वीट किया। वहीं सियासी हलकों में इस मामले पर चर्चाओं का बाजार गर्म है।

Pin It