भाईचारा सम्मेलन से सत्ता पाने की जुगत में बसपा

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। बसपा ने प्रदेश की सत्ता हासिल करने के लिए एक बार फिर सोशल इंजीनियरिंग फार्मूले का सहारा लिया है। प्रदेश के सभी जनपदों में भाईचारा सम्मेलनों का आयोजन किया जा रहा है। क्षेत्र में दलितों के बाद जिस बिरादरी के लोग बाहुल्य संख्या में मौजूद हैं, वहां उसी जाति के वरिष्ठï नेताओं को सम्मेलनों के माध्यम से स्वजातीय लोगों को पार्टी से जोडऩे की जिम्मेदारी दी गर्ई है। राजधानी के मोहनलालगंज विधान सभा के नगराम में बुधवार को भाईचार सम्मेलन का आयोजन किया गया। जिसे पार्टी के विधान परिषद के नेता विपक्ष व महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में कांग्रेस व भाजपा पर जोरदार हमला किया। महासचिव ने कहा कि सपा व कांग्रेस ने हमेशा से ही मुसलमानों को गुमराह किया तो भाजपा ने उत्पीडऩ कर किया। श्री सिद्दीकी ने बसपा द्वारा मुसलमानों के लिए कार्यों का हवाला देते हुए कहा कि मायावती के मुख्यमंत्रित्व काल में ही उर्दू, अरबी, फारसी विश्वविद्यालय की स्थापना हुई।

Pin It