बेटी की हत्या कर घर में दफनाया

  • आरोपी पिता फरार तलाश में जुटी पुलिस
  • काफी दिनों से बीमार चल रही थी नैंसी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। राजधानी के कैसरबाग थाना क्षेत्र में एक कलयुगी पिता ने अपनी मासूम बेटी की हत्या कर उसका शव घर में दफना दिया। फिलहाल आरोपी फरार है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। थाना प्रभारी ने बताया कि पुलिस आरोपी पिता की तलाश कर रही है।
कैसरबाग थाना स्थित सफदलबाग निवासी राजकुमार पेंटिंग व मजदूरी का काम करता है। इसी घर में उसके तीन और भाई सुनील,मोहन और संजय भी रहते हैं। राजकुमार के साथ उसकी 13 वर्षीय पुत्री नैंसी भी रहती थी। शनिवार सुबह राजकुमार अपने कमरे में ताला लगाकर कहीं चला गया। भाई सुनील ने जब दरवाजे पर ताला लगा देखा तो अचंभित रह गया, क्योंकि संयुक्त परिवार के चलते राजकुमार कभी ऐसा नहीं करता था। काफी देर बाद जब राजकुमार नहीं आया तो सुनील ने पड़ोसियों से पूछताछ की। पड़ोसियों ने बताया कि उसे सुबह 6 बजे जाते देखा गया है। सुनील ने खिडक़ी से नैंसी को कई आवाजें लगाईं। लेकिन कोई प्रतिक्रिया न मिलने पर उसे शक हुआ। सुनील ने कंट्रोल रूम सूचना दी तो पुलिस मौके पर पहुंची और ताला तोड़ा। दरवाजा खुलते ही उनके होश उड़ गए। कमरे में पड़े तख्त के नीचे की मिट्टी उभरी हुई थी और गीली लग रही थी। अनहोनी की आशंका के चलते पुलिस ने खुदाई शुरू की तो उससे नैंसी का शव निकला। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मृतका की दादी रामरती ने बताया कि राजकुमार किसी को भी अपने कमरे में नहीं जाने देता था और न ही किसी सदस्य को नैंसी से मिलने देता था। उन्होंने बताया नैंसी काफी दिनों से बीमार चल रही थी। थाना प्रभारी ने बताया कि पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है। बच्ची की मौत का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल पाएगा।

जादू-टोने पर यकीन रखता था राजकुमार

मृतका की चाची रजनी ने बताया कि नैंसी की मां की मौत किसी बीमारी के चलते पांच साल पहले हो गयी थी। उसके बाद से राजकुमार का व्यवहार भी बदल गया था। राजकुमार नैंसी को अपने कमरे में ही रखता था। वह जादूटोना पर विश्वास रखता था। वह न तो खुद नैंसी का इलाज कराता था और न ही किसी को इलाज करवाने देता था। नैंसी कक्षा चार में पढ़ती थी।

Pin It