बाजार में देसी मेड डिजाइनर दीये की धूमबाजार में देसी मेड डिजाइनर दीये की धूम

  • सिम्पल दीये की जगह गणेश की आकृति और अन्य अट्रैक्टिव लुक वाले दीये की जोरदार डिमांड

ऐश्वर्या गुप्ता
captureलखनऊ। सोशल मीडिया पर चलाये जा रहे अभियान का असर कहें या फिर सरकार से मिले प्रोत्साहनों का परिणाम, दीपावली पर वर्षों बाद देसी और डिजाइनर दीये की डिमांड बढ़ गई है। इस बार दीपावली पर बाजार में चाइनीज दीपक और मोमबत्ती उपलब्ध होने के बावजूद लोग देसी दीया यानी मिट्टी के बने दीये की खरीदारी पर अधिक जोर दे रहे हैं। बाजार में चाइनीज झालरों और दीपक की मांग लगातार घटती चली जा रही है।
दीपावली हिन्दुओं का सबसे खास फेस्टीवल होता है। उससे जुड़े हर सामान की खरीदारी लोग वक्त से पहले ही करना शुरू कर देते हैं। इन्हीं सब सामानो में से एक हैं मिट्टी के दीये। इन दीयों की डिमांड वर्षों बाद दोबारा बढ़ गई है। चाइनीज झालरों और दीये की जगह मिट्टी के बने देसी दीये की जोर-शोर से खरीदारी की जा रही है। बाजार में देसी दीये की डिमांड को ध्यान में रखकर कुम्हारों ने भी तरह-तरह के डिजाइनर दीये बनाये हैं। दुकानों पर कई रंगों और डिजाईनों देसी दीये मिल रहे हैं। दीपावली का त्यौहार रविवार को है, अभी से घरों की सफाई और दीपावली पर घरों को जगमग करने की खरीदारी शुरू हो चुकी है। दीपावली पर घरों में सरसों के तेल या घी का दीया जलाना शुभ माना जाता है। पिछले कुछ सालों में चीनी झालरों और दीये ने बाजार पर कब्जा कर लिया था। लेकिन इस बार देसी दीये की धूम मची हुई है। दीपावली पर लोग लगभग सभी क्षेत्रों की दुकानों पर मिट्टी के दीये की खरीदारी में व्यस्त नजर आ रहे हैं। जबकि जिन दुकानदारों के पास चाइनीज दीया है, वे लोगों को बिना तेल और झंझट के रोशनी का लालच देकर दीया बेचने में व्यस्त हैं। लेकिन चाइनीज दीया खरीदने वाले ग्राहक नहीं मिल रहे हैं।

दुकानों पर दिया गया मिट्टी के दीये का आर्डर

दीये बनाने वाले अंशुल मिश्रा ने बताया कि इस बार दीपावली पर मिट्टी के दीये का आर्डर सबसे अधिक मिला है। इसका कारण चाहे जो हो लेकिन दीपावली के त्यौहार पर वर्षों बाद देसी दीये की डिमांड की जा रही है। जो लोग दीपावली पर बीस से पच्चीस दीये खरीदते थे, वे इस बार 50 से सौ दीये खरीद रहे हैं। ऐसे में मिट्टी से बने दीये की डिमांड बढ गई है। यह मिट्टी के दीये और बर्तन बनाने वालों के लिए अच्छी खबर है।

अलग-अलग रंग के दीये

चाईनीज सामान को टक्कर देने के लिए मार्केट में मिट्टी के दीये को खूबसूरत तरीके से सजा कर बेचा जा रहा है। हजरतगंज के दुकानदार सरोज ने बताया कि बाजार में मिट्टी और तरह-तरह के कलर से डेकोरेटेड कई तरह के मनमोहक दीये मौजूद हैं। इसमें आर्ट ऑफ ईस्ट ऐक्रेलिक दिया, तानारिरी हस्तकला दिया, पेंटेड क्ले दिया और हैण्डमेड इंडियन दीये मिल रहे हैं। आर्ट ऑफ ईस्ट ऐक्रेलिक दीया तीन रंगों में उपलब्ध है। ऐक्रेलिक के बने इस दिए में लोग एक टी लाइट कैंडल को रख सकते हैं, जो खत्म होने के बाद भी बदली जा सकती है। यही वजह है की लोग इसे सजाने और पूजा करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। यह बाजार में 120 रुपये प्रति दीया के हिसाब से उपल्बध है। हांडी के आकार के दीये सबसे उम्दा हंै। ये मिटटी से बने हैं। इन्हें हाथों से चटकीले रंगों में रंगा गया है । ऐसे दीये पूजा घर में लोग रखते हैं तो उसकी शोभा अलग ही निखर कर आती है ।

Pin It