प्रदेशवासियों को मिलेगी चौबीस घंटे बिजली: अखिलेश यादव

दीपावली पर मुख्यमंत्री ने किया बिजली परियोजनाओं का लोकार्पण

  • कहा, विकास कार्यों में सपा का मुकाबला नहीं अपने एमएलसी पर भी ली चुटकी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दीपावली के मौके पर प्रदेश की जनता को एक और तोहफा दिया। उन्होंने आज गोमतीनगर के नवीन स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर भवन व बिजली विभाग की कई परियोजनाओं का लोकार्पण किया। इससे अब लोगों को 18 से 24 घंटे बिजली मिल सकेगी।
समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने जानबूझकर लोकार्पण के लिए आज का दिन तय किया है क्योंकि दीपावली का त्योहार रोशनी का त्योहार है। यह खुशियां का त्योहार है। हम लोगों को 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराएंगे। उन्होंने कहा कि हमने साढ़े चार साल पूर्व जो वादा किया था उसे आज पूरा कर दिया। उन्होंने कहा कि राजधानी की एक बड़ी समस्या जाम की है। इस पर भी सरकार काम करेगी ताकि लोगों को इससे छुटकारा मिल सके। मुख्यमंत्री ने इस इस मौके पर मनीराम रिक्शेवाले का जिक्र किया। उन्होंने बीजेपी को चुनौती दी कि वे उनके सामने एक भी मुख्यमंत्री का नाम बताएं, जिसने इतना काम किया हो। हम समाजवादी हैं और समाजवादियों के काम करने का तरीका यही है। आगामी विधानसभा चुनाव में नौजवान और पार्टी के लोग सपा की सरकार बनाने की काम करेंगे। मुख्यमंत्री ने बिजली विभाग के अधिकारियों को बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने चुनौतियों के बीच काम किया है। उन्होंने कहा कि विकास के काम में सपा सरकार का किसी से मुकाबला नहीं है। यदि शहर में 24 घंटे बिजली होगी तो गांवों को भी मिलेगी। मुख्यमंत्री ने चैयरमैन यूपीपीसीएल संजय अग्रवाल, एमडी यूपी पीटीसीएल विशाल चौहान और एमडी यूपीपीसीएल एपी मिश्राा को बधाई की। इस मौके पर ऊर्जा मंत्री वसीम अहमद व ऊर्जा राज्यमंत्री ललई यादव भी मौजूद रहे। जिन शहरी इलाकों में 24 घंटे लाइट दी जानी है, उनमें लखनऊ, गाजियाबाद समेत प्रदेश के 7 जिले भी शामिल हैं। 20 घंटे से लेकर 24 घंटे तक की बिजली मिलने वाले वेस्ट यूपी के शहरों में कानपुर, इटावा, सैफई, रामपुर, बरेली, मुरादाबाद, सहारनपुर आदि शामिल हैं। वहीं, पूर्वांचल के शहरों में प्रतापगढ़, इलाहाबाद, वाराणसी, आजमगढ़, बलिया, गोरखपुर, बस्ती आदि शामिल हैं।

रिक्शे वाले की पत्नी का नाम ‘बुआ जी’ के नाम पर तो मैं क्या करूं

सीएम अखिलेश यादव आज अपनी पूरी रौ में थे। पेटीएम के सीईओ को जो रिक्शे वाला सीएम हाऊस तक लाया था सीएम ने उसे 6 हजार रुपये नकद, ई-रिक्शा लोहिया आवास दिया था। गदगद रिक्शे वाला सौ किलोमीटर रिक्शा चलाकर अपने घर पहुंचा। तब पता चला कि उसकी पत्नी का नाम मायावती है। आज सीएम ने इस पर चुटकी लेते हुए कहा कि अब रिक्शे वाले की पत्नी का नाम बुआ जी के नाम पर है तो मैं क्या कर सकता हूं, मगर जिस अखबार ने यह छापा है, बुआ जी उसे नोटिस दे तो मैं कार्रवाई कर दूंगा।
सीएम ने आज अपने एमएलसी बुक्कल नवाब की भी खिंचाई कर डाली, एमएलसी ने मुझसे कहा था कि आप यूपी एएलडीसी को तय समय पर पूरा नहीं करा पाएंगे। तब हमने कहा था कि यदि कर दिया तो आप इस्तीफा दे देंगे। बुक्क ल नवाब ने कहा था हां। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने काम पूरा कर दिया है बाकी नवाब साहब जाने।

Pin It