पीएम के बयान पर विपक्ष आगबबूला, सदन में हंगामा

  • पीएम ने कहा तीन दिन का मौका मिल जाता तो आलोचना करने वाला विपक्ष आज तारीफ कर रहा होता
  • पीएम के बयान पर भडक़ा विपक्ष, कहा लोकतंत्र में पहली बार पूरे विपक्ष को बताया गया कालेधन का हिमायती
  • राज्यसभा में पीएम को बुलाने और माफी मांगने की मांग को लेकर भारी हंगामा
  • लोकसभा में भी पीएम के बयान को लेकर जबरदस्त नारेबाजी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
008नई दिल्ली। नोटबंदी को लेकर विपक्ष के हमले पर पलटवार करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कालेधन वालों को अपना धन ठिकाने लगाने का मौका नहीं मिला इसलिए वे नाराजगी जता रहे हैं। पीएम के इस बयान पर संसद में विपक्ष ने आज जोरदार हंगामा किया और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से माफी मांगने की मांग की।
पार्लियामेंट ऐनेक्स बिल्डिंग में भारत का संविधान किताब के विमोचन कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ लोग कह रहे है कि नोटबंदी के फैसले को लागू करने को लेकर सरकार ने कोई तैयारी नहीं की, हकीकत यह है कि उन्हें तैयारी का मौका नहीं मिला। तीन दिन भी तैयारी के लिए मिल जाते तो यही लोग कहते कि क्या फैसला है। उन्होंने कहा कि वक्त आ गया है कि भारत में डिजिटल करेंसी को बढ़ावा दिया जाए। सबको अपना पैसा निकालने का हक है। विपक्ष को नसीहत देते हुए मोदी ने कहा कि राजनीति के ऊपर भी समाज हित में कई काम करने होते हैं। प्रधानमंत्री के बयान पर राज्यसभा और लोकसभा में विपक्ष ने जमकर हंगामा और नारेबाजी की। विपक्ष ने कहा मोदी लोगों की परेशानी कम करने की जगह विपक्ष पर ही कालेधन का हिमायती होने का आरोप लगा रहे हैं। हंगामे के चलते दोनों सदन स्थगित कर दिए गए हैं।

हम सरकार के नोटबंदी के फैसले को मना नहीं कर रहे हैं। लेकिन जनता नोटबंदी के फैसले की वजह से काफी परेशान है। सरकार ने इसका क्रियान्वयन सही तरीके से नहीं किया है। पीएम ने विपक्ष पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्हेंं सदन में आकर सबसे माफी मांगनी चाहिए।
-शरद यादव
राज्यसभा सांसद, जदयू

कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सत्ता पक्ष के लोग विपक्ष पर संसद को डिरेल करने का आरोप लगा रहे हैं लेकिन सरकार ने तो देश को ही डिरेल कर दिया है। पीएम का विपक्ष पर गंभीर आरोप लगाना आपत्तिजनक है। इस पर उन्हें माफी मांगनी चाहिए।
-गुलाम नबी आजाद
राज्यसभा सांसद, कांग्रेस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए सपा सांसद रामगोपाल यादव ने कहा कि केंद्र के नोटबंदी के फैसले से जनता परेशान हो रही है, लेकिन मोदी तो विपक्ष पर ही आरोप लगा रहे हैं।
-रामगोपाल यादव
राज्यसभा सांसद, सपा

मोदी ने चहेतों के कालेधन को ठिकाने लगवाया : मायावती

बसपा सुप्रीमो मायावती ने प्रधानमंत्री के द्वारा विपक्ष पर लगाए गए आरोपों पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी की तैयारी के दौरान मोदी ने अपने पार्टी व चहेतों के कालेधन को ठिकाने लगवा दिया। उनकी आधी अधूरी तैयारी का खामियाजा देश की गरीब जनता भुगत रही है। अगर मोदी में हिम्मत है तो वे सदन में आकर विपक्ष के सवालों का जवाब दें।

सूबे में एनीमिया खत्म करेगा समाजवादी नमक: अखिलेश

  • 10 जनपदों में कुपोषण मिटाने के लिए महत्वाकांक्षी योजना की शुरुआत
  • 5 साल से कम उम्र के बच्चों में कुपोषण की समाप्ति के लिए नमक वितरण

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

लखनऊ। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज अपने आवास 5केडी पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान डबल फोर्टीफाइड समाजवादी (डीएफएस) नमक वितरण का शुभारंभ किया। इस नमक को खाने से एनीमिया से ग्रसित लोगों को लाभ मिलेगा। नमक वितरण कार्यक्रम के प्रथम चरण में सूबे के 10 जिलों को चयनित किया गया है। इन जिलों में गरीब परिवारों और कुपोषित बच्चों की सेहत में सुधार के लिए नमक वितरित किया जायेगा।
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने डीएफएस नमक वितरण योजना के तहत दर्जनों महिलाओं को नमक वितरित किया। उन्होंने खाद्य एवं रसद योजना विभाग की इस महत्वाकांक्षी योजना की प्रशंसा करते हुए कहा कि प्रदेश में कुपोषण की समस्या को दूर करना उनकी सरकार की प्राथमिकता है। प्रदेश सरकार काफी समय से कुपोषण के खिलाफ अभियान चला रही है। प्रदेश में कुपोषित बच्चों का पता लगाने और उनको पोषणयुक्त आहार बांटने का काम लगातार किया जा रहा है। इससे निश्चित तौर पर कुपोषित बच्चों की संख्या में कमी आई है। इसके साथ ही प्रदेश सरकार ने ग्रामीणों की जिंदगी को बेहतर करने के लिए अन्य कई योजनाएं भी चलाई हैं, जिसमें एक तरफ गरीब परिवारों को समाजवादी पेंशन दी जा रही है, तो दूसरी ओर उनके स्वास्थ्य और उनके परिवार की सेहत सुधारने और बच्चों को शिक्षा देने की योजनाएं शुरू की गई है। सीएम ने कहा कि एक सर्वे में प्रदेश के दस जनपदों में आयरन और आयोडीन की मात्रा कम होने की बात सामने आयी थी। इसके बाद सरकार ने कुपोषण समाप्त करने की दिशा में काम शुरू किया और कुपोषित जिलों को समाजवादी नमक देने की योजना शुरू करने का निर्णय लिया।
जिन 10 जनपदों का चयन किया गया है, उनमें सिद्धार्थनगर, सन्तकबीरनगर, फैजाबाद, मऊ, मेरठ, फर्रूखाबाद, हमीरपुर, इटावा, औरेया और मुरादाबाद हैं। गौरतलब है कि इन जनपदों में ज्यादातर लोग एनीमिया से ग्रसित हैं। 5 साल से कम उम्र के बच्चों में एनीमिया का प्रसार ज्यादा पाया गया है। ऐसे लोग यदि डबल फोर्टीफाइड नमक का सेवन करें, तो न सिर्फ छोटे बच्चे बल्कि माताओं, किशोरी बालिकाओं और गर्भवती महिलाओं को भी इससे लाभ होगा।

Pin It