पटरी दुकानदारों पर टूटा नगर निगम का कहर

  • दीपावली से पहले निगम दस्ते ने बिना सूचना चलाया अतिक्रमण हटाओ अभियान
  • निगम कर्मचारियों ने की दुकानों में जमकर लूटपाट, कारोबारियों से मारपीट

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। त्यौहार सिर पर है। शहर के व्यापारी हर्षोल्लास से तैयारियों में लगे हैं और बाजार सज चुके हैं। ऐसे में नगर निगम ने बुधवार को कुछ ऐसा किया कि व्यापारियों के आंखों से आंसू छलक गए। दरअसल बुधवार को गुडंबा क्षेत्र में पटरी दुकानदारों पर नगर निगम का दस्ता कहर बनकर टूटा। नगर निगम दस्ते ने गुडंबा थाने से लेकर चार नंबर चौराहे तक अतिक्रमण के विरुद्ध बिना सूचना के अभियान चलाया, जिसमें व्यापारियों का खासा नुकसान हो गया। इस दौरान व्यापारियों ने नगर निगम दस्ते पर कई गंभीर आरोप भी लगाये। नगर निगम के इस अभियान से व्यापारियों में काफी आक्रोश है।
स्थानीय व्यापारियों ने बताया कि नगर निगम दस्ते ने सारी हदें पार कर दी। व्यापारियों का आरोप है कि निगम कर्मचारियों ने पक्की दुकानों में घुसकर लूटपाट की। व्यापारियों का आरोप है कि उनकी दुकानें रोड से अलग है और अपनी हद में हैं बावजूद इसके नगर निगम दस्ते के कर्मचारियों ने पक्की दुकानों में घुसकर कई दुकानों में लूटपाट की और लाखों का माल लूट ले गए।

पीएसी जवानों ने बुजुर्गों पर दिखाई ताकत

58 वर्षीय पटरी दुकानदार मो. सलीक ने बताया कि नगर निगम दस्ता अपने साथ पीएसी जवानों को लेकर आया था। सलीक की कुर्सी रोड गायत्री मंदिर के पास बक्से की दुकान है। सलीक ने बताया कि नगर निगम दस्ता उनकी दुकान में घुसा और बक्से समेत कई सामान उठाकर लादने लगे और सलीक ने जब इसका विरोध किया तो दस्ते के साथ आये पीएसी टीम से एक जवान ने उन पर थप्पड़ रसीद कर दिया। उधर, गुडं़बा निवासी 70 वर्षीय बुजुर्ग श्यामनारायण ने बताया कि वह भी साइकिल ट्रैक के पीछे जमीन पर ही रेडीमेड गारमेंट की दुकान लगाकर परिवार का भरण पोषण करता है। बुजुर्ग की आंखों से छलकते आंसुओं ने उसके दर्द को दोगुना कर दिया। उसने बताया की पहले तो केवल पुलिस वाले साहब ही मारते थे लेकिन अब पीएसी जवान और एक नगर निगम कर्मचारी ने भी उनको तीन थप्पड़ रसीद कर दिए और उनके तंबू समेत कई जोड़ी कपड़े नगर निगम वाहन में भर लिए।

Pin It