नगरोटा समेत आस-पास के इलाकों में सेना का सर्च ऑपरेशन जारी

  • आतंकियों के हमले में शहीद होने वाले सात जवानों का शव पैतृक आवास भेजा गया

captureजम्मू। जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में मंगलवार को आतंकियों के हमले में सात जवानों के शहीद होने की घटना के बाद आज सुबह से ही हमारी सेना के जवान आस-पास के इलाकों में सर्च आपरेशन चला रहे हैं। इस क्षेत्र में आतंकियों से छिपे होने की आशंका जताई जा रही है। वहीं पाकिस्तान में राहिल शरीफ की जगह कमर जावेद बाजवा के आर्मी चीफ बनते ही कश्मीर में हमले को लेकर भारत सरकार ने कूटनीतिक तरीके से पाकिस्तान पर दबाव बनाने के साथ ही पाक समर्थित आतंकियों को करारा जवाब देने का निर्णय लिया है। इस संबंध में सेना को आवश्यक निर्देश दिए जा चुके हैं।
उरी के बाद नगरोटा में आतंकियों के हमले के दौरान दो मेजर समेत सात जवान शहीद हो गये। उरी से लेकर नागरोट तक आतंकियों के हमले में 27 जवान शहीद हो चुके हैं। हमारी सेना आतंकियों की दुस्साहसिक कार्रवाई का मुंहतोड़ जवाब देने में जुटी है। उम्मीद की जा रही है कि उरी की तरह ही पाक समर्थित आतंकियों और पाकिस्तानी सेना को सर्जिकल स्ट्राइक के माध्यम से जवाब दिया जायेगा। फिलहाल सेना ने नगरोटा और आस-पास के क्षेत्रों को खाली करवाकर कॉम्बिंग शुरू कर दी है। आतंकियों के लिए सर्च ऑपरेशन व्यापक स्तर पर चलाया जा रहा है। इस क्षेत्र में स्कूलों और कार्यालयों को एहतियात के तौर पर बंद करा दिया गया है।
सेना के जवानों की पत्नियों की बहादुरी से टला संकट
जम्मू के नगरोटा में मंगलवार को हुए आतंकवादी हमले में सेना को और बड़ा नुकसान हो सकता था लेकिन दो आर्मी अफसरों की बीवियों ने अपनी सूझबूझ और बहादुरी से इसे टाल दिया। बता दें कि फैमिली क्वार्टर्स में रहने वाली इन महिलाओं की बदौलत ही बंधक संकट ज्यादा बड़ा रूप नहीं ले सका। पुलिस की यूनिफॉर्म पहने भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों ने जब आर्मी यूनिट पर हमला किया, तो उनका मकसद फैमिली क्वार्टर्स में घुसना था, जिससे वो वहां रह रहे सैनिकों के परिवारों को बंधक बना सकें। लेकिन अपने नवजात बच्चों के साथ फैमिली क्वार्टर में रह रहीं दो महिलाओं की बहादुरी ने चलते आतंकियों के मंसूबे पर पानी फिर गया। एक आर्मी अफसर ने बताया कि दो जवानों की पत्नियों ने साहस दिखाते हुए घर के कुछ सामानों की मदद से अपने क्वार्टर की एंट्री को ब्लॉक कर दिया, जिससे आतंकवादियों के लिए घर में दाखिल होना मुश्किल हो गया।

Pin It