ट्रेन हादसे व नोटबंदी पर संसद में हंगामा, टीएमसी का प्रदर्शन

संसद ने मृतकों को दी श्रद्धांजलि, बैंकों की कतार में हुई मौतों पर भी श्रद्धांजलि की मांग

विपक्षी दल बुधवार को गांधी प्रतिमा के सामने देंगे धरना, हादसे पर रेल मंत्री प्रभु ने दिया बयान

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureनई दिल्ली। संसद में आज ट्रेन हादसे व नोटबंदी पर जमकर हंगामा हुआ। टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने संसद के सामने प्रदर्शन किया। विपक्षी दल बुधवार को गांधी प्रतिमा के सामने धरना देंगे। कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद ने कहा कि नोटबंदी के दौरान जो 70 लोग लाइन में खड़े होकर मरे हैं उन्हें भी श्रद्धांजलि दी जानी चाहिए। विपक्षी सांसदों ने लगातार नारेबाजी की। लिहाजा कार्यवाही को स्थगित करना पड़ा। लोकसभा में नारेबाजी के बीच सदन की कार्यवाही जारी रही। नोटबंदी पर एकजुट हुए विपक्ष ने सरकार को संसद में घेर लिया है। विपक्षी नोटबंदी की जानकारी लीक होने की संयुक्त संसदीय समिति से जांच कराने की मांग भी कर रहा है।
टीएमसी, जेडीयू, बीएसपी, एसपी, एनसीपी और लेफ्ट पार्टियां इस मुद्दे पर एकजुट हैं। कांग्रेस ने अपने सासंदों को व्हिप जारी कर संसद में मौजूद रहने को कहा है। दूसरी ओर भाजपा ने भी व्हिप जारी किया है। इससे पहले राज्यसभा में पिछले दो दिनों से हंगामा जारी है। लोकसभा में हंगामे के बीच रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेल हादसे पर बयान दिया। उन्होंने कहा कि हादसा बड़ा है। मामले की जांच की जा रही है। दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसके पूर्व लोकसभा में हादसे में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी गई।
दाल में काला नहीं तो मोदी क्यों नहीं आ रहे हैं सदन में: माया
बसपा प्रमुख मायावती ने एक बार फिर केंद्र की मोदी सरकार को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से सबसे ज्यादा गरीब व मध्यम वर्ग के लोग परेशान है। लोग अपने बीमार परिजनों का इलाज नहीं करा पा रहे है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक स्वार्थ के लिए मोदी सरकार ने नोटबंदी का फैसला लिया। अगर दाल में कुछ काला नहीं है तो प्रधानमंत्री सदन में क्यों नहीं आ रहे हैं। उन्हें सदन में विपक्ष के सवालों का जवाब देना चाहिए।
कतार में खड़े होकर जिन लोगों की मौत हो गई उन्हें भी श्रद्धांजलि देनी चाहिए।
उन्होंने आगरा एक्सप्रेस वे के उद्घाटन पर कहा कि यह चुनावी हथकंडा है।

Pin It