ट्रामा सेन्टर में मरीज की मौत पर हंगामा

परिजनों ने शव रख कर किया प्रदर्शन, रोडवेजकर्मी था मृतक
डॉक्टर पर लापरवाही बरतने का आरोप

800x480_image56635571 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के ट्रॉमा सेंंटर में मरीज की मौत के बाद परिजनों ने जमकर हंगामा किया। परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर मरीज की हालत बिगडऩे के बाद भी देखने नहीं आये। डॉक्टर अंत तक मरीज की स्थिति ठीक होने की बात कहते रहे, लेकिन शनिवार की सुबह डॉक्टरों ने मरीज को मृत घोषित कर दिया। आक्रोशित परिजनों ने ट्रॉमा परिसर में शव रखकर प्रदर्शन किया है।
बस्ती निवासी सत्यजीत लाल का एक्सीडेंट सीतापुर के पास खैराबाद में रात दो से तीन बजे के बीच हुआ था। सूचना पर परिजन सत्यजीत को आनन-फानन में केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर ले आए। जहां डॉक्टर ने मरीज को भर्ती कर लिया। मरीज रोडवेज में कर्मचारी था। मरीज के परिजनों ने बताया कि ट्रॉमा सेंटर में सत्यजीत को भर्ती करने के बाद उनकी जांच की गई। रात में डॉक्टरों ने उनकी स्थिति में सुधार की बात कही। लेकिन सुबह डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों का आरोप है कि सत्यजीत के इलाज में डॉक्टरों ने लापरवाही की। उनके कहने पर ही डॉक्टर सत्यजीत को दवायें देते थे। यदि डॉक्टरों ने मरीज के उपचार में संवेदनशीलता दिखाई होती तो उसको बचाया जा सकता था। मौत की सूचना पर परिजन आक्रोशित हो गए और उन्होंने परिसर में हंगामा काटा और शव रखकर प्रदर्शन किया। इसकी सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों को किसी तरह समझा-बुझाकर शांत कराया।

Pin It