जनता की आंखों में धूल झोंकने के लिए मोदी ने छोड़ा नया शिगूफा: माया

  • भाजपा विधायकों व सांसदों से मांगे गए हिसाब-किताब को बसपा ने बताया नाटक

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भाजपा सांसदों व विधायकों से आठ नवंबर से 31 दिसंबर तक मांगे गए खातों के हिसाब-किताब को नया शिगूफा व नाटकबाजी करार दिया है। उन्होंने कहा है कि इससे यह साबित होता है कि नोटबंदी के मामले में भाजपा भारी जन दबाव में है। जनता की आंखों में धूल झोंकने के लिए हिसाब-किताब मांगने का नया नाटक खेला जा रहा है।
गौैरतलब है कि नोटबंदी के बाद से भाजपा सांसदों, मंत्रियों व विधायकों के द्वारा किए जा रहे खर्च पर विपक्ष के तमाम आरोपों को देखते हुए पार्टी ने इनसे खातों का हिसाब-किताब मांगा है। बसपा सुप्रीमो ने इसे लोगों का ध्यान बंटाने के लिये मोदी का नया शिगूफा बताया है। उन्होंने कहा कि भाजपा व प्रधानमंत्री नोटबंदी के मामले में लाख आदर्शवादी बनने की कोशिश करें, लेकिन पूंजीपतियों व धन्नासेठों के हित में कार्य करने के कारण उनके चाल, चरित्र व चेहरे पर पर्दा नहीं डाला जा सकता है। अनेकों साक्ष्य आने लगे हैं कि नोटबन्दी से पहले इन्होंने अपने कालेधन को ठिकाने लगाया है।

Pin It