गुजरात के भ्रष्टाचारियों का कालाधन सफेद कर रहे हैं मोदी: मायावती

  • देश की जनता को तकलीफ पहुंचाकर आत्मसंतोष महसूस करने का लगाया आरोप
  • पूंजीपतियों का कालाधन सफेद करने का लगाया आरोप

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने देश में 500 और 1000 के नोट बंद करने के मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बीजेपी भ्रष्टाचारियों का कालाधन सफेद करने का काम कर रही है। इसके अलावा जनता को तकलीफ पहुंचाकर आत्मसंतोष महसूस कर रही है। जबकि केन्द्र में सत्ता हासिल करने से पूर्व मोदी जी ने सरकार बनने के 100 दिन के अंदर कालाधान वापस लाने और जनता के बैंक खाते में 15 -15 लाख रुपये डालने का वादा किया था। लेकिन किसी भी वादे को पूरा नहीं कर पाये।
मायावती ने कहा कि केन्द्र सरकार को कालाधन और कालाधन रखने वालों की इतनी ही चिन्ता है, तो जल्द से जल्द भ्रष्टाचारियों और कालाधन वालों के नाम उजागर करें। उन्होंने अमित शाह पर निशाना साधते हुए कहा कि वह मोदी की अंध भक्ति कर रहे हैं। इसी वजह से नोट बंदी को शाह ने सर्जिकल स्ट्राइक बताया है। जबकि बीजेपी ने ऐसा करके भ्रष्टाचारियों के कालेधन को सफेद करने का काम किया है। मोदी ने गुजरात के कुछ भ्रष्टाचारियों का कालाधन सफेद करने को लेकर नोट बंद करने का खेल खेला है। यदि सरकार को कालेधन की चिन्ता होती तो ललित मोदी और विजय माल्या को देश के भागने का मौका नहीं मिलता। माया ने कहा कि मोदी जी ने कालाधन वापस लाने, भ्रष्टाचारियों पर कार्रवाई करने और जनता के खाते में 15-15 लाख रुपये देने का वादा किया था। लेकिन मोदी ने किसी भी भ्रष्टाचारी पर कार्रवाई नहीं की है।

नोट बंद होने के बाद भूकंप जैसे हालात

मायावती ने कहा कि पीएम की नोट बंद करने की घोषणा के बाद देश में भूकम्प जैसे हालात सामने आ गये। इस तरह रात में नोट बंद करने का फैसला सही कदम नहीं था। इसलिए बीजेपी एंड कम्पनी के लोगों को जनता सजा देगी। उन्होंने कहा कि बीजेपी परिवर्तन यात्रा के साथ पीएम की परिवर्तन रैली भी कर ले। लेकिन आने वाले चुनाव में कोई लाभ नहीं मिलेगा। बीजेपी गरीबो नहीं धन्नासेठों पर ध्यान दे रही,गरीबों, किसानों पर बीजेपी ने आर्थिक चोट पहुंचाई है। इसके लिए बीजेपी के लोगों की पेट्रोल पम्पों से साठगांठ है, जिसकी वजह से पिछले दो दिनों से उनकी चांदी हो गई है।

Pin It