गंगा की सफाई तभी सम्भव, जब अन्य नदियां भी होंगी साफ: मुख्यमंत्री

  • सरकार ने गांव एवं शहर में संतुलन बनाकर प्रदेश को विकास के पथ पर ले जाने का किया कार्य

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि गंगा की सफाई तभी सम्भव है, जब अन्य नदियां भी साफ होंगी। समाजवादी सरकार गंगा को साफ करना चाहती है, इसलिये वाराणसी में वरुणा नदी, वृन्दावन में यमुना तथा लखनऊ में गोमती की सफाई के लिए अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वरुणा नदी तभी साफ हो सकेगी, जब नदी के किनारे के होटल, कारखानों तथा शहर के सीवर का गन्दा पानी वरुणा में जाने से पूरी तरह रोका जाएगा और नदी में छोड़ा जाने वाला पानी, ट्रीटमेंट के बाद ही छोड़ा जायेगा। इससे गंगा नदी को भी राहत मिलेगी।
मुख्यमंत्री श्री यादव जनपद वाराणसी के फूलपुर थाना क्षेत्र स्थित कठेरवां गांव में एक निजी कार्यक्रम में शामिल होने के पश्चात मीडिया प्रतिनिधियों से वार्ता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि गंगा नदी को साफ करने का इरादा रखने वालों को आगे आकर राज्य सरकार की मदद करनी चाहिए। सीएम ने कहा कि वाराणसी के लिए मेट्रो परियोजना को हरी झण्डी दे दी गयी है और डीपीआर स्वीकृत कर दिया गया है। वाराणसी में मेट्रो के अलावा, तमाम बड़ी परियोजनाएं भी स्वीकृत की गयी हंै और उन पर कार्य भी युद्धस्तर पर चल रहा है। इस अवसर पर सीएम ने अपने सरकार की तमाम उपलब्धियों को गिनवाया। एक सवाल के जबाब में उन्होंने कहा कि इंकलाब तो आना चाहिए, लेकिन सवाल है कि इसे कौन लाएगा। उनका मानना है कि इंकलाब जनता को लाना चाहिये और उनके प्रति इंकलाब लाना चाहिए, जो वास्तव में गरीब और किसान के लिए काम कर रहे हैं।
ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों के लिए 102.18 करोड़ स्वीकृत

राज्य में मार्च, 2016 में ओलावृष्टि के कारण किसानों की फसलों को हुई क्षति के सापेक्ष कृषि निवेश अनुदान वितरित किए जाने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर प्रदेश के 12 जिलों के लिए लगभग 102.18 करोड़ रुपए की धनराशि स्वीकृत की गई। वित्तीय वर्ष 2016-17 के अन्तर्गत यह धनराशि राज्य आपदा मोचक निधि के तहत स्वीकृत की गई है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर यह धनराशि जिलाधिकारियों को उपलब्ध कराई गई है।

Pin It