को-ऑपरेटिव के एडिशनल रजिस्ट्रार से मांगी एक करोड़ की रंगदारी

  • चाचा-भतीजे को एसटीएफ ने किया गिरफ्तार
  • मुन्ना बजरंगी के नाम पर मांगी थी रंगदारी

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। यूपी एसटीएफ ने फैजाबाद में तैनात को-ऑपरेटिव के एडिशनल रजिस्ट्रार से एक करोड़ की रंगदारी मांगने वाले दो लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों में एक एडिशनल रजिस्ट्रार का ही जूनियर अधिकारी है। पुलिस ने उनके पास एक मोबाइल फोन और टूटा सिम बरामद किया है। दोनों ने झांसी जेल में बंद माफिया मुन्ना बजरंगी के नाम पर रंगदारी मांगी थी।
जानकारी के मुताबिक, गोमतीनगर के विनीतखंड निवासी विनय कुमार मिश्र फैजाबाद में को-ऑपरेटिव के एडिशनल रजिस्ट्रार हैं। बीते 24 नवंबर को उनके मोबाइल एक व्यक्ति ने कॉल कर खुद को मुन्ना बजरंगी बताया और एक करोड़ रुपये रंगदारी मांगी। धमकी दी कि तुम्हारा बेटा गोमतीनगर में पढ़ता है, रकम नहीं मिली तो उसे अगवा कर लेंगे। विनय ने मामले की जानकारी पुलिस को दी और गोमतीनगर थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई। छानबीन में गोमतीनगर पुलिस के साथ एसटीएफ को भी लगाया गया। एसटीएफ की टीम ने शनिवार की देर रात को फैजाबाद से सरैंया निवासी राम अनुज सिंह और उसके चाचा अरविंद सिंह को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के मुताबिक अरविंद फैजाबाद में विनय के अंडर में अपर जिला सहकारी अधिकारी, को-ऑपरेटिव के पद पर मंडलीय कार्यालय में तैनात है। एसटीएफ के मुताबिक आरोपी राम अनुज सिंह हाल में ही जेल से जमानत पर बाहर आया है। उसे रुपयों की जरूरत थी। उसने एसटीएफ को बताया कि अरविन्द सिंह ने ही उसे विनय का नाम बताया था और परिवार की जानकारी देकर मोबाइल नंबर उपलब्ध करवाया था। आरोपी ने पूछताछ में यह भी बताया कि पीडि़त ने एक करोड़ रुपये न होने की बात कही थी, तो उसने रंगदारी 50 लाख रुपये कर दी थी। फिलहाल दोनों आरोपियों को देर रात ही गिरफ्तार कर उनके विरूद्ध विधिक कार्रवाई शुरू कर दी है।

Pin It