करतूतों को छुपाने में जुटा ज्योति इन्वॉयरोटेक

नगर निगम ने दिया 30 नवंबर तक का अल्टीमेटम

निरीक्षण में चारों यूनिट चलती पाई गई

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। ज्योति इन्वॉयरोटेक कंपनी अपनी करतूतों से बाज नहीं आ रही है। शिवरी प्लांट पर टीम की निरीक्षण की जानकारी पहले से ही कंपनी को थी, जिसका नतीजा निकला कि प्लांट पर टीम को सब कुछ ठीक ठाक मिला। शिवरी स्थित सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट को पूरी क्षमता से ना चलाये जाने की कई बार शिकायतें मिल रही थी, जिसके बाद नगर निगम की टीम ने मंगलवार को औचक निरीक्षण किया।
निरीक्षण के दौरान प्लांट की चार यूनिट चलती पाई गई। टीम ने पाया कि अब तक न चलने वाले प्लांट की चारों यूनिट चल रही थी। वहीं जो सैकड़ों ट्रक कूड़ा डंप था वह भी आधे से कम बचा था और सफाई भी पहले से ठीक थी। नगर निगम द्वारा बार-बार डंडा चलाने के बाद प्लांट ने रफ्तार तो पकड़ ली है लेकिन यह रफ्तार कब तक बनी रहेगी, इस पर सवाल खड़ा होता है।

प्लांट के पूरी क्षमता से न चलने पर बिजली बनी रोड़ा

वर्तमान में प्लांट को जनरेटर से भी चलाया जाता है। कार्यदायी संस्था द्वारा अभी शहरी फीडर से बिजली को नहीं जोड़ा गया है। इसलिए यहां विद्युत आपूर्ति दस से बारह घंटे ही होती है। नियमानुसार ज्योति इन्वॉयरोटेक को नियमित रूप से तेरह सौ टन कूड़ा प्रोसेस करना है। बिजली न मिलने से यह टारगेट आधा भी नहीं हो पाता है जबकि जनरेटर भी 30 नवंबर के बाद चल पाएगा या नहीं इस पर भी सवाल खड़ा होता है, क्योंकि एजेंसी को अपना प्लांट पूरी क्षमता से चलाने के लिए अंतिम तिथि 30 नवंबर दी गई है।

Pin It