आरक्षण समर्थक केन्द्र सरकार के खिलाफ चलायेंगे अभियान

  • पदोन्नति में आरक्षण संबंधी बिल पास न होने से हैं नाराज

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। लोकसभा में लंबित पदोन्नति में आरक्षण संबंधी संशोधन बिल पास कराने की मांग को लेकर आंदोलनरत आरक्षण समर्थकों को पीएम की गाजीपुर रैली से निराशा हाथ लगी है। उम्मीद के विपरीत अपने संबोधन में लंबित बिल पर न बोलने से प्रधानमंत्री आरक्षण समर्थकों के निशाने पर आ गए हैं। इससे नाराज आरक्षण समर्थकों ने भाजपा हराओ देश बचाओ अभियान छेडऩे का ऐलान
किया है।
आरक्षण समर्थकों को उम्मीद थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गाजीपुर रैली में पदोन्नति में आरक्षण संबन्धी लंबित बिल पर दलितों को आश्वासन देंगे। लेकिन प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में इस पर कोई चर्चा ही नहीं की। इससे नाराज आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति ने कहा कि संवैधानिक अधिकारों व जनहित के मुद्दों से आम जनमानस का ध्यान भटकाने के लिये प्रधानमंत्री मोदी नई मुहिम में लगे हैं। गाजीपुर में उन्होंने बाबा साहब द्वारा बनायी गयी संवैधानिक व्यवस्था पदोन्नति में आरक्षण संवैधानिक संशोधन बिल पर एक शब्द भी नहीं बोला। जबकि लोकसभा की 30 सदस्यीय संसदीय कमेटी ने अविलम्ब सत्र में रखकर बिल पास करने की प्रबल संस्तुति की है। 16 नवम्बर से चलने वाले शीतकालीन सत्र के पहले प्रधानमंत्री एक नया जन विरोधी मुद्दा उछाल कर पदोन्नति में आरक्षण बिल को उलझाना चाह रहे हैं। जल्द ही समिति भाजपा भगाओ देश बचाओ अभियान शुरू करेगी, जिससे दलित समाज का संवैधानिक अधिकारों पर आगे भाजपा कोई कुठाराघात न कर सके। संयोजक अवधेश कुमार वर्मा, सुखेन्द्र प्रताप, प्रतोष कुमार, जितेन्द्र कुमार, रामेन्द कुमार, जगदीश कुमार गौतम, श्रीनिवास राव, योगेन्द्र रावत, सुनील कनौजिया ने संयुक्त रूप से कहा कि देश के दलित समाज को सबसे पहले उसका संवैधानिक अधिकार चाहिए उसके बाद किसी भी मुद्दे पर वह बहस के लिये तैयार हैं।

Pin It