आतंकी हमले व नोटबंदी पर संसद में हंगामा

  • बैंक की कतार में मरने वाले लोगों के परिजनों को मुआवजा देने की उठाई मांग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureनई दिल्ली। नोटबंदी और आतंकी हमलों को लेकर आज संसद में विपक्ष ने हंगामा किया। हंगामे के दौरान लोकसभा में प्रधानमंत्री भी मौजूद थे। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने हंगामा शुरू कर दिया। ऐसा ही हाल राज्यसभा का रहा। विपक्ष ने कहा कि जिन लोगों की मौत नोटबंदी के दौरान हुई है, उनके परिजनों को सरकार मुआवजा दे। दोनों सदनों की कार्यवाही कुछ देर के लिए स्थगित कर दी गई।
केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि आतंकी हमले जैसे मसले पर भी सरकार सदन में बहस के लिए तैयार है, विमुद्रीकरण एक मात्र मुद्दा नहीं है। वहीं, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राज्यसभा में शरद यादव से कहा कि आप अपनी पार्टी से पूछ लें कि नोटबंदी में वह आपके साथ हैं या नहीं ? जेटली के इस सवाल से पहले शरद यादव ने नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार पर हमला करते हुए बसपा प्रमुख मायावती का साथ दिया था। बसपा सुप्रीमो ने आज सदन में नगरोटा में हुए आतंकी हमले के साथ-साथ नोटबंदी का मामला भी उठाया। नगरोटा आतंकी हमले की गूंज आज राज्यसभा में सुनाई दी। जवानों की शहादत पर कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सदन में शहीदों को श्रद्धांजलि देनी चाहिए थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

दस महीनों का हिसाब दें भाजपा नेता: मायावती

 बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि सीमा की सुरक्षा को लेकर सरकार को गंभीर होना चाहिए। उन्होंने कहा कि आतंकी हमले को लेकर सीमा की सुरक्षा पर सरकार ने कोई ध्यान नहीं दिया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी का फैसला लेने से पहले केंद्र सरकार ने गड़बड़ी की। बीजेपी के लोगों ने अपना कालाधन सफेद कराया। बीजेपी नेताओं को 10 महीने का हिसाब देना चाहिए।

सरकार दे मुआवजा: रामगोपाल यादव

सपा के राज्यसभा सांसद रामगोपाल यादव ने नोटबंदी के खिलाफ एक बार फिर सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि पैसे के लिए बैंक की लाइन में खड़े जिन लोगों की मौत हुई है उनके परिजनों को सरकार दस लाख का मुआवजा दे।

Pin It