आक्रोश दिवस में शामिल नहीं होंगी ममता बनर्जी

लखनऊ में कल आयोजित धरने का करेंगी नेतृत्व

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। नोटबंदी के खिलाफ एकजुट विपक्षी दलों को भारत बंद की सलाह देने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आक्रोश दिवस से किनारा कर लिया है। उन्होंने बकायदा ट्विट कर कहा है कि विपक्ष की बैठक में आक्रोश दिवस पर कोई बात नहीं हुई थी। इसलिए वे और उनकी पार्टी इसमें शामिल नहीं होगी।
नोटबंदी के विरोध में एकजुट नजर आ रहा विपक्ष अब बंटता दिखाई दे रहा है। 28 नवंबर को नोटबंदी के विरोध में कांग्रेस के आक्रोश दिवस के आह्वान से भी कुछ पार्टियों ने खुद को अलग कर लिया है। ममता बनर्जी ने बाकायदा ट्वीट कर कहा कि विपक्ष की बैठक में आक्रोश दिवस पर कोई बात नहीं हुई थी। लिहाजा उनकी पार्टी इस बंद में शामिल नहीं होगी। इससे पहले ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार को नोटबंदी को लेकर चेतावनी दी थी कि अगर तीन दिनों के अंदर यह फैसला वापस नहीं लिया गया तो 28 नवंबर से विरोध में आंदोलन शुरू किया जाएगा। हालांकि उन्होंने इसका खुलासा नहीं किया था कि यह आंदोलन किस तरह का होगा। ममता बनर्जी लखनऊ में 29 नवंबर को उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के द्वारा आयोजित धरना प्रदर्शन का नेतृत्व करेंगी। गौरतलब है कि पीएम मोदी के धुर विरोधी माने जाने वाले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहले ही नोटबंदी के कदम का समर्थन करते हुए कहा था कि नोटबंदी का यह कदम कोई साधारण कदम नहीं, बहुत साहसिक कदम है। नीतीश के समर्थन के बाद जेडीयू ने भी
आक्रोश दिवस से खुद को अलग कर लिया है।

Pin It