अपराधियों पर अंकुश लगाने में पुलिस हुई फेल संगीन वारदातों को अंजाम देकर फरार हुए बदमाश

  • एक माह में हत्या, लूट और बलात्कार समेत कई वारदातों से थर्राई राजधानी
  • हाईटेक पुलिस ने अपराधियों के सामने टेके घुटने, वारदातों का नहीं हुआ खुलासा

captureलखनऊ। राजधानी की हाईटेक पुलिस अपराधियों के सामने पूरी तरह बेबस नजर आ रही है। बदमाशों के हौसले बुलंद हैं। हत्या, लूट, छिनैती और रेप की तमाम घटनाओं को अंजाम देकर बदमाश फरार होने में कामयाब हो रहे हैं। लेकिन पुलिस वारदातों का खुलासा करने में नाकाम साबित हो रही है। इसलिए आम जनता में अपनी सुरक्षा की चिन्ता सताने लगी है।
एसएसपी मंजिल सैनी द्वारा राजधानी की कमान थामते ही कुछ दिनों तक अधिकारियों ने उनके निर्देशों का पालन किया, जिससे अपराधियों और आपराधिक घटनाओं पर भी काफी हद तक अंकुश लगा था। लेकिन कुछ महीने का वक्त बीतने के बाद सभी अधिकारी एसएसपी के निर्देशों को भूल गये। इसलिए अपराधियों ने दोबारा बेखौफ होकर वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया। जिले में एक के बाद एक लूट, हत्या, डकैती और रेप जैसी संगीन वारदातों से लोगों में दहशत फैल गई। वहीं पुलिस की सतर्कता की भी पोल खुल गई। जबकि पूर्व कप्तान राजेश कुमार पांडेय पर भी अपराधों पर अंकुश न लगा पाने के आरोप लगे थे। इसके बाद लेडी सिंघम के नाम से मशहूर मंजिल सैनी को लखनऊ का एसएसपी बनाया गया लेकिन वह भी अपराधों पर अंकुश लगाने में कुछ खास नहीं कर पाईं। अपराधी एक बाद एक संगीन वारदातों को अंजाम देने के साथ ही पुलिस विभाग के लोगों को भी अपना शिकार बना चुके हैं। बेखौफ बदमाशों ने सरेराह किसी बेगुनाहों का खून बहाया, तो कहीं किसी घर में डाका डालने के साथ ही मासूम बच्ची की अस्मत लूट ली। इन घटनाओं में अब तक पुलिस खुलासा नहीं कर पाई है। इसी वजह से पारा क्षेत्र में डकैती और नाबालिग के साथ रेप की घटना का खुलासा न होने पर कई थानेदार बदले गये लेकिन घटना का खुलासा नहीं हो सका। इससे नाराज होकर एसएसपी ने कई मठाधीश पुलिसकर्मियों की भी एसएसपी ने एक न सुनी और उनके भी तबादले कर दिए। वहीं लखनऊ में लगभग सभी थानों में नये थानेदारों की तैनाती कर दी गई। इसके बाद भी अपराधों पर नियंत्रण नहीं लग पा रहा है।
राजधानी में अपराधियों ने सबसे ज्यादा अक्टूबर के महीने में चेन लूट, हत्या और रेप की घटनाओं को अंजाम दिया। इसके अलावा एक के बाद एक हत्या, लूट, डकैती, रेप और चेन स्नैचिंग जैसी संगीन वारदातों से अंजाम दे रहे हैं। जबकि लखनऊ की हाई टेक पुलिस पूरी तरह बेबस नजर आ रही है।

अपराधियों पर जल्द लगेगी लगाम: एसएसपी

राजधानी मेें बेखौफ अपराधियों और उनके द्वारा अंजाम दी जा रही संगीन वारदातों के संबंध एसएसपी मंजिल सैनी ने बताया कि पुलिस पूरी तरह सर्तक है। वहीं सभी थानेदारों को गश्त के आदेश भी दिए गये है। उन्होंने कहा कि पुलिस की सतर्कता के चलते ही कई घटनाओं के खुलासे किए गये हैं। जिन घटनाओं के खुलासे अब तक नहीं हो सके है। उसका खुलासा भी जल्द होने की उम्मीद है।

वारदातों का ब्योरा

01 अक्टूबर-गाजीपुर थाना क्षेत्र में संपत्ति के विवाद में अपहरण कर की गयी हत्या।
03 अक्टूबर-गोसाईगंज थाना क्षेत्र में नबालिग से रेप की घटना।
03 अक्टूबर- मडिय़ाव में देवी जागरण से लौट रही बीए की छात्रा का अपहरण कर रेप का प्रयास।
03 अक्टूबर- जानकीपुरम थाना क्षेत्र रियल स्टेट कारोबारी के घर 12 लाख की चोरी।
04 अक्टूबर-जानकीपुरम निवासी सियाराम की पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी।
05 अक्टूबर गोमतीनगर के विश्वासखण्ड में डकैती का प्रयास।
07 अक्टूबर- मोहनलालगंज नाबालिग बच्ची से दुष्कर्म किया गया।
19 अक्टूबर-गुडम्बा थाना क्षेत्र में युवती से रेप का प्रयास।
20 अक्टूबर- इन्दिरा नगर सुरभि नामक युवती से जेवर लूटे।
20 अक्टूबर-मोहनलालगंज थाना क्षेत्र में राज सिंह की निर्मम हत्या कर दी गयी।
20 अक्टूबर- चिनहट थाना क्षेत्र में बाराबंकी निवासी बच्ची की हत्या कर फेंका गया शव।
23 अक्टूबर-गोविन्द मिश्रा को जहर देकर हत्या कर दी गयी।
27 अक्टूबर गोमती नगर थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े युवक की गला रेतकर हत्या कर दी गयी
27 अक्टूबर-गुडंबा थाना क्षेत्र में पेंटर की नाले में संदिग्ध परिस्थितियों में मिली डेडबॉडी ।
30 अक्टूबर-बाजार खाला में बच्ची के संदिग्ध परिस्थितियों में लगने से मौत।
31 अक्टूबर-बीकेटी थाना क्षेत्र में युवक की गला रेतकर निर्मम हत्या।

Pin It