अपने एजेंडे को दूसरे धर्म पर न थोपे आरएसएस

तीन तलाक मुद्दे पर माया का बड़ा बयानतीन तलाक मुद्दे पर माया का बड़ा बयान

  • बसपा सुप्रीमो ने कहा, शरीयत कानून से जुड़े धार्मिक मुद्ïदों पर बिल्कुल बंद होनी चाहिए राजनीति

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

captureलखनऊ। बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने तीन तलाक के मुद्दे पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के खिलाफ बड़ा बयान दिया है। माया ने कहा कि तीन तलाक का मुद्दा मुस्लिम धर्म से जुड़ा है। उस मुद्दे को मुस्लिम धर्म से जुड़े लोग अपने तरीके से साल्व कर लेंगे। ऐसे मुद्दों पर आरएसएस को अपना एजेंडा दूसरे धर्म पर थोपने से बचना चाहिए।
मायावती ने कहा कि शरीयत कानून से जुड़े धार्मिक मुद्दों पर राजनीति बिल्कुल बंद होनी चाहिए। भारत देश विभिन्न धर्मों, जातियों, संस्कृतियों वाला ऐसा देश है, जहां लोग सदियों से अपने किस्म-किस्म की धार्मिक मान्यताओं के अनुसार अपने रीति-रिवाजों और परम्पराओं में विश्वास करते हैं। इन सबसे जुड़े मानवीय पहलुओं पर ध्यान दिए जाने की जरूरत है। इसी वजह से डॉ. भीमराव अंबेडकर ने देश के संविधान में इसकी व्यवस्था की और खासकर मजहबी आजादी अर्थात धर्म की स्वतंत्रता के अधिकार को प्रमुखता दी। इसलिए संविधान के मूल में निहित पवित्र भावना के साथ इसका अक्षरश: अनुपालन किया जाना चाहिए। ऐसा करना देश और जनहित के लिए बहुत जरूरी है। उन्होंने केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी और आरएसएस पर निशाना साधा और कहा कि तीन तलाक का मुद्दा धर्म विशेष का मुद्दा है। इस मुद्दे को राजनीतिक रंग देकर और मुस्लिम धर्म पर अपना एजेंडा थोपा जाना सही नहीं है। इसलिए केन्द्र सरकार और आरएसएस को अपनी हरकतों से बाज आना चाहिए। देश में अशांति का माहौल पैदा करने से बचना चाहिए। यह भी कहा कि शरीयत के कानून के अनुसार और मुस्लिम धर्म की परम्परा के अनुसार जो सही होगा, जनता उसी को फॉलो करेगी। किसी पर दबाव डालकर सुधार के नाम पर कुछ जबरन नहीं करवाया जा सकता है।

Pin It