हुकुम सिंह की लिस्ट गलत निकलने के बाद अब बीजेपी की टीम जाएगी कैराना

  • हुकुम सिंह ने बीते दिनों जारी की थी कैराना से पलायन करने वालों की लिस्ट, लिस्ट आने के बाद सूबे में मचा घमासान 
  • हुकम सिंह ने कल यूटर्न लेते हुए कहा-हिंदुओं का पलायन साम्प्रदायिक मुद्दा नहीं

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के कैराना से हिंदू परिवारों के पलायन के मुद्दे पर सियासत तेज हो गई है। पिछले दिनों बीजेपी सांसद हुकुम सिंह ने एक लिस्ट जारी कर दावा किया था कि बीते 2 साल में कैराना में सांप्रदायिक हिंसा के चलते बड़े पैमाने पर 346 परिवारों ने पलायन किया है। इसको लेकर जब सरकार ने 346 में से 119 परिवारों का सर्वे किया तो पता चला कि बीते 2 साल में केवल 13 परिवारों ने ही पलायन किया। इसके बाद बीजेपी सांसद हुकुम सिंह की काफी किरकिरी हुई। अब भाजपा खुद हुकुम सिंह के दावों की जांच करने जा रही है। आज बीजेपी का नौ सदस्यीय दल कैराना पहुंचकर आरोपों की जांच करेंगा।
कैराना जाने के लिए जिस दल का गठन किया गया है उसका नेतृत्व विधानमंडल दल के नेता सुरेश खन्ना कर रहे हैं। इस दल में विधानमंडल में सचेतक डॉ. राधामोहन दास अग्रवाल, सांसद डॉ. सतपाल सिंह, सांसद राघव लखनपाल शर्मा, सांसद डॉ. भोला सिंह, सांसद सतीश गौतम, सांसद धर्मेंद्र कश्यप और यूपी के पूर्व डीजीपी बृजलाल भी जांच दल में हैं। प्रदेश की सियासत में इस समय कैराना मुद्दा छाया हुआ है। भाजपा के सांसद हुकुम सिंह ने पिछले दिनों एक लिस्ट जारी की थी जिसमें उन्होंने बताया कि कैराना से हिंदू परिवार साम्प्रदायिक हिंसा की वजह से पलायन करने को मजबूर है। इस लिस्ट के आने के बाद बीजेपी ने प्रदेश सरकार को घेरने की कोशिश की। इस बीच शासन ने भी जांच करायी तो रिपोर्ट उससे भिन्न आया। यूपी सरकार ने 346 में से 119 परिवारों का सर्वे किया तो पता चला कि बीते 2 साल में केवल 13 परिवारों ने ही पलायन किया। सरकार की तैयार की गई रिपोर्ट के अनुसार लिस्ट में शामिल 68 परिवार 10 से 15 साल पहले कैराना छोडक़र यूपी के दूसरे हिस्सों में, हरियाणा में, दिल्ली में और गुजरात जाकर शिफ्ट हो गए। इसके अलावा करीब 4 ऐसे परिवार हैं, जिन्होंने जिले को 20 साल पहले ही छोड़ दिया। इनमें से एक राज्य सरकार की जॉब छोडक़र नोएडा में सेटल हो गया। वहीं, हुकुम सिंह की लिस्ट में शामिल 13 परिवार ऐसे हैं जो अब भी कैराना के पट्ïटेवाला, कायस्थबर्दा और दरबार कला यानी अपने घरों में रह रहे हैं। 4 नाम ऐसे भी हैं जिनकी मौत हो चुकी है। ये रिपोर्ट 119 परिवारों के फिजिकल वेरिफिकेशन पर बेस्ड है। यह रिपोर्ट आने के बाद बीजेपी सांसद हुकुम सिंह की काफी किरकिरी हुई। कल उन्होंने यूटर्न लेते हुए कहा कि कैराना से हिंदुओं का पलायन साम्प्रदायिक मुद्दा नहीं है। बल्कि इसका कानून व्यवस्था की स्थिति से अधिक लेना-देना है। इस बीच, हुकुम सिंह ने कांधला इलाके से पलायन करने वाले 63 लोगों की नई लिस्ट जारी की है। हुकुम सिंह के दावों की पोल खुलने के बाद घिरती बीजेपी ने खुद इसकी जांच करने की ठानी।

Pin It