हिस्ट्रीशीटर ने मां-बेटे को पीटा, पुलिस मूकदर्शक

  • Captureजानकीपुरम पुलिस पर हिस्ट्रीशीटर के पक्ष में कार्रवाई करने का आरोप
  • लगातार दूसरी बार हुई वारदात, नहीं हो रही कार्रवाई

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। जानकीपुरम पुलिस पर एक के बाद एक आरोप लग रहे है लेकिन इसके बाद भी जानकीपुरम पुलिस पर कोई कार्रवाई नहीं होगी। जानकीपुरम पुलिस की लापरवाही से अपराधियों के हौसले बुलंद हो गए हैं। पुलिस की मिली भगत से आये दिन बेखौफ और दबंग बदमाश आम आदमी को सरेराह पीट रहे है, इसके बाद भी पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है।
जानकीपुरम पुलिस का गलत रवैया दो दिन पूर्व भी देखने को मिला लेकिन अधिकारियों ने कोई कार्रवाई नहीं की। पुलिसिया मिली भगत के चलते बेखौफ दबंगों ने सोमवार की शाम मां-बेटे को जमकर पीट दिया। इतना ही नहीं आरोप है कि दबंगों ने महिला से छेड़छाड़ की और गाली-गलौच करते हुए जान से मारने की धमकी दी। पीडि़ता ने वुमेन पावर लाइन और पुलिस कंट्रोल रूम पर इसकी सूचना दी। काफी देर तक जब पुलिस मौके पर नहीं पहुंची तो पीडि़त स्वयं थाने पर पहुंचे लेकिन पुलिस मुकदमा दर्ज करने की बजाए फटकार कर उन्हें भगा दिया।
बता दें कि जानकीपुरम थाना क्षेत्र के मडिय़ांव गांव निवासी मोहित शुक्ला का घर पर ही स्टूडियो है। मोहित का भतीजा मयूर सोमवार को अपनी मां रीता शुक्ला को बाइक से लेकर इंजीनियरिंग कॉलेज चौराहा जा रहा था। रास्ते में वहीं के रहने वाले हिस्ट्रीशीटर इकरार, अबरार और इशरार ने उन्हें रोक लिया। मारपीट करने केसाथ महिला के साथ अभद्रता की और जान से मारने की धमकी देने लगे। पीडि़त ने पुलिस कंट्रोल रूम और वुमेन पावर लाइन पर इसकी सूचना दी। काफी देर तक जब पुलिस मौके पर नहीं पहुंची तो पीडि़त स्वयं थाने पर पहुंचे लेकिन पुलिस मुकदमा दर्ज करने की बजाए फटकार कर उन्हें भगा दिया। इसकी जानकारी होने पर हिन्दू सेना के जिलाध्यक्ष अम्बुज ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ जानकीपुरम थाने पहुंचकर कार्रवाई की मांग की लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई। मोहित शुक्ला का आरोप है कि विगत 27 सितंबर को उनकी दुकान पर उनका भतीजा मयूर बैठा हुआ था। तब भी हिस्ट्रीशीटर इकरार ने उसे पीटा था। इसका मुकदमा भी थाने पर दर्ज हुआ लेकिन पुलिस ने अभी तक कोई कदम नहीं उठाया।

Pin It