हाशिमपुरा कांड के पीडि़तों ने मुलायम सिंह यादव से की न्याय की गुहार

Captureलखनऊ। हाशिमपुरा कांड के पीडि़तों ने सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव से मिलकर न्याय की गुहार लगायी। सपा नेता आशु मलिक की अगुवाई में पीडि़तों के एक दल ने मुलायम सिंह यादव को अपने दर्द से आगाह किया। उनके आवास पर करीब डेढ़ घंटे तक चली मुलाकात के दौरान सपा सुप्रीमो ने पीडि़तों की बातें सुनी। इसके बाद उन्होंने प्रमुख सचिव सीएम को आवश्यक कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिये। हाशिमपुरा कांड के पीडि़त जुल्फीकार नासिर ने सपा सुप्रीमो से राज्य की तरफ से कोर्ट में मजबूती से पक्ष रखे जाने की मांग की। इसके अलावा उन्होंने आर्थिक मुआवजे के मसले पर 1984 के सिख दंगे की तर्ज पर अनुग्रह राशि देने के साथ ही ज्ञान प्रकाश आयोग की रिपोर्ट को सार्वजनिक कराए जाने की भी मांग की।
न्यायिक जांच की मांग
प्रतिनिधि मंडल की तरफ से सीबीसीआईडी द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट में सबूतों से की गई छेड़छाड़ के मसले पर सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायधीश से जांच कराने की मांग की गयी। इसके साथ ही रिपोर्ट तैयार करने वाले अधिकारियों के नाम सार्वजनिक किए जाने की भी मांग रखी। मुलायम सिंह यादव ने प्रतिनिधि मंडल को आश्वस्त किया कि उनकी सभी मांगों पर कार्रवाई की जाएगी।
यह है हाशिमपुरा कांड
1987 में मेरठ के हाशिमपुरा गांव में हुए नरसंहार के मामले में बीते 21 मार्च को दिल्ली की एक अदालत ने फैसला सुनाते हुए सभी 16 आरोपी पुलिसवालों को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था। इस मामले के कुल 19 आरोपी थे, जिनमें अब सिर्फ 16 ही जीवित हैं। पुलिस के मुताबिक, इस नरसंहार में 42 लोग मारे गए थे। मारे गए लोग अल्पसंख्यक समुदाय के थे, जो पांच लोग बच गए, उन्हें 2007 में अभियोजन पक्ष का गवाह बना लिया गया। अदालत ने कहा था कि आरोपियों की पहचान से जुड़े सबूतों का अभाव था।

 

 

Pin It