हमारा देश और प्रदेश कृषि प्रधान: शिवपाल यादव

  • किसानों को जो मदद मिलनी चाहिए थी नहीं मिली
  • प्रदेश सरकार ने चार साल में किसानों की उन्नति के लिए काफी काम किया

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। हमारा देश कृषि प्रधान देश है। इसके बावजूद देश को जितनी तरक्की करनी चाहिए थी, नहीं कर पाया। देश के किसानों को जो मदद मिलनी चाहिए थी, वह नहीं मिल पाई। इसी वजह से देश के विकास की रीढ़ मानी जाने वाली कृषि की तरफ से लोगों का मोहभंग हो रहा है लेकिन यूपी में किसानों को उन्नति के पर्याप्त अवसर उपलब्ध करवाने का काम लगातार किया जा रहा है। चार साल में प्रदेश सरकार ने काफी काम किया है। ये बातें कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव ने गोमती नगर स्थित इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में सुपर फूड उत्पादन एवं आजीविका विकास कार्याशाला के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि किसानों को खेती के लिए उन्नत बीज और खाद उपलब्ध कराने से लिए सिंचाई के बेहतर साधन उपलब्ध कराने की दिशा में प्रदेश सरकार काम कर रही है।
शिवपाल यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार ने किसानों को सिंचाई के बेहतर साधन उपलब्ध करवाने के लिए नहरों की सफाई और खोदाई का काम किया है। इसके अलावा नलकूपों का भी प्रबंध किया है। प्रदेश सरकार ने दो साल में तीन हजार से अधिक तालाब खोदवाया है। बुंदेलखंड में पानी की काफी समस्या है। वहां महीने भर में 100 से अधिक तालाब खोदवाए गए। जो जल संचय और प्रदेश में भू जल स्तर को सुधारने की दिशा में अभूतपूर्व कदम है। इसके अलावा प्रदेश सरकार किसानों की मौत पर पांच लाख का बीमा दे रही है। किसानों को अपने अनाज का बेहतर मूल्य दिलाने की दिशा में भी काम कर रही है। किसान मंडियों का निर्माण किया जा रहा है। किसानों को अनाज का बेहतर मूल्य दिलाने के लिए अनाज की बिक्री और खरीद का डॉटा आनलाइन किया जा रहा है। इसलिए खाद्यान्न उत्पादन के आंकड़ों में लगातार बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है। प्रदेश के लोगं को कृषि क्षेत्र में भी रोजगार के अवसर मिल रहे हैं। इस कार्यशाला में विशेषज्ञों ने शुष्क क्षेत्र में उन्नत खेती की तकनीकों के बारे में जानकारी दी। इसके साथ ही प्रोजेक्टर के माध्यम से उन्नति खेती में लाभदायक संयत्रों के संचालन के बारे में भी बताया। इस अवसर पर राम गोविंद चौधरी और शाहिद मंजूर और कृषि उत्पादन आयुक्त प्रवीर कुमार समेत कई अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Pin It