हथौड़ा चलाने के बाद अब मायावती के जन्मदिन पर केक काटेगा अमित जानी

शिवपाल यादव को लेकर अमित जानी ने कहा कि यदि वह कहेंगे तो मैं उनका जूता उठाऊंगा

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मायावती की मूर्तियों पर हथौड़ा चलाने वाले अमित जानी का ह्दय परिवर्तित हो गया है। वह मायावती के जन्मदिन को सहिष्णुता दिवस के रूप में मनाने जा रहे हैं। इस दिन मुजफ्फरनगर में केक काटकर जानी मायावती को जन्मदिन की बधाई देगा। अमित जानी की इस हरकत को लेकर सवाल उठने लगे हैं कि क्या वह मायावती से डर गए हैं? शिवपाल यादव को लेकर अमित जानी ने कहा है कि यदि वह कहेंगे तो मैं उनका जूता उठाउंगा, क्योंकि उन्होंने उनकी मां के निधन पर साथ दिया था।
अमित जानी यूपी सरकार बनते ही उस समय सुर्खियों में आए थे, जब उन्होंने मायावती की गोमतीनगर के बाबा भीमराव अंबेडकर पार्क में लगी मूर्ति पर हथौड़ा चलाया था। इसके बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को आनन-फानन में नई मूर्ति लगवानी पड़ी थी। इसको लेकर अमित जानी का कहना था कि वह जिंदा रहते हुए मूर्ति लगवाने के विरोधी हैं। इस लिए उन्होंने मूर्ति तोड़ी है, लेकिन अब अमित जानी मायावती के जन्मदिन को सहिष्णुता दिवस के रूप में मनाने जा रहे हैं। 4पीएम से बातचीत में अमित जानी ने बताया कि इस देश में हर किसी को किसी भी नेता या महापुरुष का जन्मदिन मनाने का अधिकार है। मायावती ने भूखों रहकर संघर्ष किया है।

क्या है अमित जानी का नया एजेंडा

अमित जानी ने बताया कि वह मुजफ्फरनगर सदर से चुनाव लड़ेंगे। युवाओं की भागीदारी को लेकर जो सपना राजनीतिक दलों ने दिखाया था। वह ढकोसला है। नेता के बेटे और रिश्तेदारों को ही पद और प्रतिष्ठा दी जाती है। इस लिए राजनीति में आना जरूरी है।

Pin It