हजरतगंज एसबीआई के अकाउंट सेक्शन में लगी भीषण आग

  • इससे पहले भी कई सरकारी दफ्तरों में लग चुकी है आग

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। राजधानी में एक के बाद एक विभाग के दफ्तर को आग के हवाले करना मानो घोटालेबाजों ने अपना पेशा ही बना लिया हो। इसके चलते लगभग सभी सरकारी विभागों के दफ्तरों को आग के हवाले किया जा चुका है। गौर करने वाली बात यह है कि लगभग हर विभाग के उन्हीं सेक्शनों में आग लग रही है, जिसमें सिर्फ और सिर्फ अकाउंट की फाइलें मौजूद थीं। अनुमान लगाया जा रहा है कि इन फाइलों में कई ऐसी घोटालों की भी फाइलें मौजूद थीं, जिनमें घोटालेबाज़ों की काली करतूतों एक लम्बी फेरिस्त थी।
यही कारण है कि घोटालेबाजों ने शक्ति भवन के बाद अब एसबीआई बैंक के अकाउंट सेक्शन को आग निशाना बना दिया। इसका ताजा मामला हजरतगंज स्थित एसएसपी कार्यालय से महज कुछ ही दूरी पर एसबीआई बैंक में आग लगने के रूप में सामने आया। जहां मंगलवार की शाम अचानक आग लग जाने से हडक़म्प मच गया। इस बात की सूचना पर फायर ब्रिगेड की कई गाडिय़ों ने बड़ी मशक्त के बाद आग पर काबू पाया।
शहर में विभागीय घोटालेबाजों की करतूतें सिर चढ़ कर बोल रही हैं। इसके चलते उन्होंने अपने खिलाफ सारे सबूत मिटाने के लिए भीषण गर्मी में शार्ट सर्किट से आग को एक मात्र अपना हथियार बना लिया लिया है। ऐसे लोग उन सभी फाइलों को जलाकर राख कर रहे हैं, जिसमें उनके द्वारा हड़पे गए करोड़ों के राजस्व की पोल मौजूद थी। इसका ताजा नजारा हजरतगंज स्थित एसबीआई शाखा में देखने को मिला। जहां अकाउंट सेक्शन में शार्ट सर्किट से मंगलवार की शाम आग लग गई। धुआं उठता देख कर्मचारियों ने इसकी सूचना दमकल को दी। मौके पर दमकल की तीन गाडिय़ों ने आग पर करीब आधे घंटे की मशक्कत के बाद काबू पा लिया। तब तक महत्वपूर्ण फाइलें और फर्नीचर जलकर खाक हो गये। बता दें कि इससे पहले शक्ति भवन के कॉरपोरेट प्लानिंग विभाग से जुड़े दो कमरों में आग लगने के कारण घोटाले की फाइलें जली थीं। आग से कमरे में रखे दस्तावेज समेत कई अहम रिकॉर्ड राख हो गए। आग लगने की वजह शॉर्ट-सॢकट बताई गयी है। आग लगने की सूचना मिलते ही सीएफओ चन्द्र शेखर टीम के साथ पहुंचे। सीएफओ ने बताया दमकल की तीन गाडिय़ां और एक हाइड्रोलिक प्लेटफॉर्म लगा था। करीब आधे घंटे में आग की लपटों को शांत कर लिया गया। फिलहाल अधिकारी इस मामले की गंभीरता से जांच कर रहे हैं।

आग लगने की जांचें हो गईं ठण्डी, दब गए घोटाले

राजधानी में लगातार सरकारी विभागों के दफ्तरों में आग लगने के बाद मामलों की जांच के आदेश तो दिए जाते हैं, लेकिन उसके बाद न तो जांच पूरी होती है और न ही फाइलों को जलाने वाले आरोपियों तक जांच अधिकारियों के हाथ पहुंच पाते हैं। ऐसा इसलिए कहा जा सकता है क्योंकि इससे पूर्व में गांधी भवन, बापू भवन, स्वास्थ्य विभाग, इंदिरा भवन, कौशल विकास मिशन के दफ्तरों में आग लग चुकी है। इन सभी विभागों में आग लगने के बाद कई आलाधिकारी मौके पर पहुंचे भी और जांच होने की बात कहकर सभी शांत हो गए। इससे घोटालेबाजों के हौसले और भी बुलंद हो गए। यही कारण है कि वो अभी भी सरकारी विभागों को अपना शिकार बना रहे हैं। इसमें अति आवश्यक है कि इन अग्नि कांडों का जल्द ही खुलास किया जाये। जिससे दोषियों को सजा मिल सके।

Pin It