स्वास्थ्य मेले में सर्जरी भी होगी मुफ्त: प्रो.रविकांत

आने वाले समय में गांवों में भी लगेगा स्वास्थ्य मेला

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
captureलखनऊ। राजधानी के केजीएमयू प्रशासन द्वारा स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया जा रहा है। 14 जनवरी को लगने वाले इस मेले की शुरुआत केजीएमयू परिसर स्थित सरदार पटेल ग्राउण्ड में सुबह 11 बजे होगी। यह जानकारी केजीएमयू के कुलपति प्रो.रविकांत ने मंगलवार को प्रेसवार्ता के दौरान दी। उन्होंने बताया कि इस स्वास्थ्य मेले में आने वाले मरीजों को चिकित्सकीय परामर्श के साथ ही दवा और मुफ्त जांच की सुविधा मिलेगी। जिन मरीजों को इलाज में सर्जरी की आवश्यकता होगी, उनकी सर्जरी भी मुफ्त की जायेगी। इतना ही नहीं आने वाले समय में दूरदराज के क्षेत्रों और गांवों में भी स्वास्थ्य मेला लगाया जायेगा।
प्रो. रविकांत ने बताया कि स्वास्थ्य मेला शुरू करने का उद्देश्य जन सामान्य को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना है। आम इंसान बीमारियों के प्रति जागरूक होगा, तो किसी भी बीमारी को गंभीर रूप लेने से पहले ही चिकित्सकीय सलाह लेकर इलाज शुरू कर देगा। उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए किया जा रहा है, क्योंति वर्तमान समय में बहुत से लोग जानकारी के आभाव में गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। उत्तर प्रदेश के सात जिले ऐसे हैं, जहां शिशु मृत्यु दर सबसे ज्यादा है। विशेषकर वो जिले जो नेपाल से सटे हुए है। गोण्डा ,बहराइच, बलरामपुर,सिद्वार्थ नगर में नवजातों की मृत्युदर अन्य जिलों की अपेक्षा ज्यादा है। उन्होंने बताया कि सबसे बुरा हाल श्रावस्ती का है। इन सातों जिलों में सबसे ज्यादा बच्चे श्रावस्ती जिले में अपनी जान गंवाते हैं। उन बच्चों की जान जाने का प्रमुख कारण संक्रमण होता है। यदि लोग सफाई व्यवस्था पर ध्यान दें, तो संक्रमण की वजह से होने वाली गंभीर बीमारियों और मौतों को रोका जा सकता है। वहीं गर्भवती महिलाओं को जागरूक करना भी जरूरी है। ताकि सुरक्षित प्रसव और शिशु मृत्यु दर में कमी लाई जा सके। कुलपति ने बताया कि स्वास्थ्य मेला लगाए जाने से चिकित्सकों का गुरूर एलीमेंट भी खत्म हो जाएगा।

Pin It