स्ववित्त पोषित शिक्षकों की आर्थिक स्थिति खराब, कोई नहीं ले रहा है सुध

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अवध विश्वविद्यालयों की मनमानी के खिलाफ आज से स्ववित्त पोषित शिक्षकों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया है। शिक्षकों का कहना है कि जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं की जाएगी तब तक यह प्रदर्शन जारी रहेगा। शिक्षकों का आरोप है कि शासन से लेकर प्रशासन तक कोई भी हमारी मांगों पर ध्यान नहीं दे रहा है, जिससे शिक्षकों की आर्थिक स्थिति दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही है।
शिक्षकों की मांग है कि विश्वविद्यालय प्रशासन या तो शिक्षकों का केंद्री कृत डाटा बेस ऑनलाइन करे या फिर अपनी कुर्सी छोड़े। इसी मांग के साथ शिक्षकों ने यह भी कहा की जब तक विवि प्रशासन हमारी मांगों को पूरा नहीं करेगा तब तक हम लोग आंदोलन करते रहेंगे। कई महीनों से केवल आश्वासन मिल रहा है। शिक्षकों का यह भी आरोप है कि इस प्रकार की धांधली में विवि की मिली भगत होने से कोई नकार नहीं सकता। विवि प्रशासन को फर्जी नियुक्ति के विषय में पता होने के बाद भी विवि न तो ऐसे शिक्षकों पर कोई कार्रवाई कर रहा है, और नही शिक्षकों का ऑनलाइन डाटा जारी कर रहा है। शिक्षकों ने अपनी समस्या और धांधली के विषय में राजपाल को भी अवगत कराया था लेकिन वहां से भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है। उच्च शिक्षा उत्थान समिति के प्रदेश महामंत्री जेपी सिंह का कहना है कि अब शिक्षकों की हालत यह हो गयी है कि वह अपने परिवार का भरण-पोषण करने में भी नाकाम हो रहे है। जिसका गंभीर परिणाम देखने को मिल रहा हैं।

Pin It