स्वतंत्रता दिवस पर हाईअलर्ट संवेदनशील इलाकों पर पुलिस का पहरा

स्वतंत्रता दिवस पर हाईअलर्ट संवेदनशील इलाकों पर पुलिस का पहरा

डीजीपी ने गाइडलाइन जारी कर दिए कड़ी सुरक्षा के निर्देश

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर भूमि पूजन के बाद से प्रदेश में दंगा भडक़ाने की साजिश रची जा रही है। ऐसी खबरें उडऩे के बाद से उत्तर प्रदेश में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर योगी सरकार ने इस बार अतरिक्त सुरक्षा और सतर्कता के निर्देश दिए गए हैं। सभी जिलों के पुलिस कप्तान, रेलवे के एसपी को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है। अयोध्या में भूमि पूजन के बाद से सोशल मीडिया पर जिस तरह सांप्रदायिक सौहार्द बिगाडऩे की लगातार साजिश की जा रही है, उसे देखते हुए डीजीपी मुख्यालय ने कड़ी सुरक्षा व्यवस्था को लेकर गाइडलाइन जारी की है।
खासतौर से सभी संवेदनशील जिलों में खुफिया विभाग को हर एक गतिविधि पर पैनी नजर रखने को कहा गया है। डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने अगले तीन दिन प्रभावी चेकिंग के साथ ही सभी संवेदनशील जिलों में सुरक्षा के अतिरिक्त बंदोबस्त किए जाने की बात कही है। उत्तर प्रदेश में स्वतंत्रता दिवस पर सभी पुलिस लाइन में ध्वजा रोहण के दौरान शारीरिक दूरी का पूरी सख्ती से अनुपालन कराने के निर्देश भी दिए गए हैं। पुलिस को सभी संवेदनशील क्षेत्रों में पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। सूबे की सीमाओं पर कड़ी नजर रखने के साथ ही शरारती तत्वों के विरुद्ध समय रहते प्रभावी निरोधात्मक कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए गए हैं। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर विस्तृत गाइडलाइन भी तैयार की गई है। सोशल मीडिया की निगरानी में साइबर क्राइम सेल को लगाया गया है।

कई संदिग्ध पुलिस व एटीएस के रडार पर

उत्तर प्रदेश में इससे पहले विधायकों को भी ऐसे ही वर्चुअल नंबर के जरिए वॉट्सएप पर धमकी भरे संदेश भेजे गए थे। तब जांच में सामने आया था कि पाकिस्तान से धमकी भरे संदेश भेजे जा रहे हैं, लेकिन पुलिस व जांच एजेंसियां कोई ठोस कार्रवाई नहीं कर सकी थीं। एक बार फिर यही आशंका है कि राम मंदिर के भूमि पूजन के बाद सांप्रदायिक माहौल बिगाडऩे की साजिश सीमा पार से की जा रही है। जिस तरह वर्चुअल नंबरों का इस्तेमाल किया जा रहा है, उससे पुलिस व जांच एजेंसियों की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं। हालांकि सूबे के सभी संवेदनशील जिलों में अतिरिक्त सतर्कता बरते जाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा सोशल मीडिया पर वायरल संदेशों की निगरानी भी बढ़ा दी गई है। कई संदिग्ध पुलिस व एटीएस के रडार पर हैं।

वीडियो वायरल कर माहौल बिगाडऩे की साजिश

स्वतंत्रता दिवस से पहले साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाडऩे की साजिश का सिलसिला थमता नजर नहीं आ रहा है। सोशल मीडिया पर विभिन्न वर्चुअल नंबर से रिकार्डेड कॉल और आपित्तजनक वीडियो वायरल करने का क्रम जारी है। कई वीडियो वायरल कर माहौल बिगाडऩे की साजिश की जा रही है। वर्चुअल नंबर के जरिए वॉट्सएप ग्रुप बनाकर भी लगातार जहर उगला जा रहा है। यूपी के अलावा दिल्ली, महाराष्टï्र व अन्य स्थानों पर भी आपित्तजनक ऑडिया व वीडियो वायरल किए जा रहे हैं। आईबी समेत अन्य केंद्रीय खुफिया एजेंसियां भी लगातार सक्रिय हैं। हालांकि अब तक खुफिया एजेंसियां व पुलिस शरारती तत्वों तक पहुंचने में नाकाम हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *