स्कूल संचालक ने की अभिभावक से अभद्रता

  • आरटीई के तहत किसी भी हाल में बच्चे का प्रवेश स्कूल में न लेने की दी धमकी 

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी में आरटीई के तहत गरीब बच्चों को निजी स्कूलों में प्रवेश को लेकर समस्याएं खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। सुप्रिम कोर्ट की फटकार के बाद भी स्कूल अपनी तानाशाही से बाज नहीं आ रहे हैं। शनिवार को फ्लोरेंस नाइटिंगेल इंटर कॉलेज में एक महिला अपनी बच्ची के प्रवेश के लिए पहुंची जहां उसे स्कूल के मालिक ने धुतकारते हुए जगह न होने की बात कही।
आरटीई के तहत सभी निजी स्कूलों को अपने यहां 25 प्रतिशत सीटें गरीब बच्चों के प्रवेश के लिए आरक्षित रखनी है। ऐसे में त्रीवेणी नगर में स्थित फ्लोरेंस नाइटिंगेल स्कूल में ममता गुप्ता नाम की महिला अपने बच्चे अर्पित गुप्ता के प्रवेश के लिए स्कूल पहुंची। बेसिक शिक्षा अधिकारी की ओर से जारी एक सूची में उसके बच्चे का दाखिला फ्लोरेंस नाइटिंगेल स्कूल में होना है। महिला ने स्कूल के प्रिसिंपल को जब सूची दिखाई तो मौके पर स्कूल मालिक अन्ना महाराज ने महिला से अभद्र शब्द में धुदकारते हुए कहां कि हमारे यहां कोई प्रवेश नहीं मिलेगा। सारी सीट फुल हो चुकी हैं। जाओं जिससे शिकायत करना है कर दो। बीएसए से कहना है तो उसे भी बोल दो कि अन्ना महाराज ने कहा है कि हम प्रवेश नहीं लेंगे। हमारे यहां कोई जगह नहीं हैं। परेशान महिला काफी देर तक स्कूल में बैठे जिम्मेदारों के आगे गिड़गिड़ाती रही है। सुनवाई न होता देख महिला मायूस होकर वहां से चली गई। स्कूल में कार्यरत कर्मचारी से सवाल करने के दौरान उसने यह बात कही कि हमारे यहां तीन गरीब बच्चों का प्रवेश हो चुका है। अब जगह नहीं है। अब सवाल यह उठता है कि नियमों के तहत सभी निजी स्कूलों को 25 प्रतिशत सीटें गरीब बच्चों के लिए आरक्षित रखने का निर्देश दिया गया है। उसके बाद भी तीन बच्चों के प्रवेश लेने मात्र से ही सारी सीटें फुल बता रहे हैं। ऐसे में गरीब बच्चों को उनका अधिकार दिलाने में सरकार की यह पहल फेल तो नहीं हो जाएगी।

Pin It