सोशल मीडिया पर नहीं रुक रहा है अफवाहों का बाजार

एक महीने में पुलिस के पास 800 भडक़ाऊ पोस्ट और वीडियो की आईं शिकायतें

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। दादरी में हुए हत्याकांड के लिए यूपी सरकार सोशल मीडिया पर फैली अफवाहों को जिम्मेदार बता रही है। सोशल साइट्स पर अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात कर रही है लेकिन हकीकत यही है कि इस तरह की अफवाहों का दौर यूपी में अभी भी जारी है। सोशल मीडिया पर भडक़ाऊ वीडियो, भाषण धड़ल्ले से प्रसारित किए जा रहे है।
सोशल मीडिया पर फैली अफवाहें क्या गुल खिला सकती हैं, यूपी का दादरी कांड इसका सबसे बड़ा सबूत है। यूपी सरकार ने इस तरह की अफवाह फैलाने वालों से सख्ती से निपटने के आदेश पुलिस को दे रखे हैं लेकिन पुलिस की तमाम सख्ती के बाद भी इस तरह की अफवाहें थमने का नाम नहीं ले रही हैं। माहौल बिगाडऩे वाले वीडियो और संदेश की शिकायत के लिए यूपी पुलिस ने जो नंबर जारी कर रखा है उस पर पिछले एक महीने के दौरान आपत्तिजनक वीडियो और संदेशों को लेकर 800 से ज्यादा शिकायतें आ चुकी हैं। इसमें कुछ वीडियो और संदेश ऐसे हैं जिनसे किसी की भी धार्मिक भावनाएं भडक़ सकती हैं।
यूपी के एडीजी लॉ एन आर्डर दलजीत चौधरी का कहना है कि इस तरह के कंटेंट को सर्कुलेट करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है और कुछ लोगों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की गई है। यूपी में एक तरफ जहां अफवाहों का बाजार गर्म है। सरकार लोगों से अफवाहों पर ध्यान ना देने की अपील कर रही है वहीं बीजेपी प्रवक्ता चद्र मोहन ने सोशल मीडिया पर आई अफवाहों की बाढ़ के लिए सरकार के साथ ही पुलिस के ढीले रवैये को जिम्मेदार बता रहे हैं। जबकि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव खुद कह चुके हैं कि अफवाहों से कुछ नहीं होता है लेकिन इन्हीं अफवाहों से कभी कभी बहुत कुछ हो जाता है। दादरी में अफवाह के बाद जो कुछ हुआ उसकी कीमत सरकार और प्रदेश के सौहार्द को चुकानी पड़ी है। ऐसे में जरूरत इस बात कि है कि पुलिस इस तरह की अफवाह फैलाने वालों पर जल्द से जल्द लगाम लगाए।

Pin It