सोनिया की इफ्तार पार्टी, राजनीति और दिखावे का मिश्रण

इफ्तार की राजनीति का भारत में इतिहास पुराना है। देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने इसकी शुरुआत की थी। उनके बाद प्रधानमंत्री बने लालबहादुर शास्त्री ने इसे जारी नहीं रखा। 1974 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हेमवती नंदन बहुगुणा ने मुस्लिम वोट बैंक की खातिर इसे शुरू किया। इन्दिरा गांधी को भी वह पसंद आया और उसके बाद उन्होंने भी इसे शुरु कर दिया।

कल्याणी शंकर
सोनिया गांधी द्वारा पिछले दिनों दी गई इफ्तार पार्टी क्या सफल रही? इसके बारे में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। हालांकि उनके समर्थक दावा कर रहे हैं कि गिलास आधा भरा हुआ था। उनके कहने का मतलब है कि वह 50 फीसदी सफल रही। दूसरी ओर सोनिया के विरोधियों को गिलास आधा दिखाई दे रहा है। इन दावों में कुछ खास नहीं रखा हुआ है। असल चीज जो मायने रखती है, वह यह है कि इफ्तार पार्टी के बाद किस तरह-तरह की गतिविधियां तेज हुई हैं।
पार्टी में उपस्थित लोगों की संख्या को देखें और उसकी भव्यता को देखें, तो कह सकते हैं कि यह पार्टी अपना मुख्य उद्देश्य पाने में सफल रही। इस पार्टी को देखकर यूपीए सरकार के दिनों की याद आती है। इफ्तार पार्टी रमजान के दौरान उपवास रखने वालों के लिए दी जाती है, लेकिन राजनीतिज्ञों द्वारा इस तरह की जो पार्टियां दी जाती हैं, उसमें धार्मिकता से ज्यादा महत्व राजनीति की होती है। इफ्तार पार्टी देने वालों की शान-शौकत का पता इससे चलता है। अधिकांश पार्टियों के नेता इस तरह की पार्टियों का आयोजन करते हैं और उनमें उपस्थित लोगों की संख्या से आयोजकों के रुतबे का पता चलता है। इफ्तार की राजनीति का भारत में इतिहास पुराना है। देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने इसकी शुरुआत की थी। उनके बाद प्रधानमंत्री बने लालबहादुर शास्त्री ने इसे जारी नहीं रखा। 1974 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हेमवती नंदन बहुगुणा ने मुस्लिम वोट बैंक की खातिर इसे शुरु किया। इन्दिरा गांधी को भी वह पसंद आया और उसके बाद उन्होंने भी इसे शुरु कर दिया।
उसके बाद सभी प्रधानमंत्रियों ने इफ्तार पार्टी की इस परंपरा को आगे बढ़ाया। प्रधानमंत्री द्वारा आयोजित पार्टी सरकारी पार्टी होती थी। जब अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री बने, तो उन्होंने भी इस परंपरा को जारी रखा। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेन्द्र मोदी ने इस लंबी परंपरा को तोड़ दिया। नरेन्द्र मोदी ने अपने 12 साल के मुख्यमंत्रित्वकाल में भी कभी इफ्तार पार्टी का आयोजन नहीं किया था और न ही वे कभी किसी इफ्तार पार्टी में गए। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा दी गई इफ्तार पार्टी में भी वे शामिल नहीं हुए।
पिछले साल भी सोनिया गांधी ने इफ्तार पार्टी दी थी, लेकिन वह पार्टी फीकी थी। इस बार उपस्थित लोगों की संख्या अच्छी थी, हालांकि कुछ महत्वपूर्ण नेता अनुपस्थित भी थे। सोनिया के साथ राहुल गांधी भी पार्टी के मेजबानी करने वालों में शामिल थे। पार्टी में गैर एनडीए नेताओं को खासकर बुलाया गया था। इसमें कोशिश विपक्षी एकता दिखाने की थी। संसद का सत्र शुरु होने वाला है और उसके पहले यह पार्टी देकर सोनिया गांधी ने अपने आपको विपक्ष की केन्द्र बिन्दु बनाने की कोशिश की। अब कांग्रेस को भी पता है कि यदि उसे प्रभावी विपक्ष की भूमिका निभानी है, तो अन्य विपक्षी पार्टियों को भी अपने साथ रखना होगा। पार्टी देकर सोनिया यह संकेत देना चाह रही थीं कि कांग्रेस अभी भी प्रासंगिक है। वह यह भी बताना चाह रही थीं कि उनकी राजनैतिक सक्रियता अभी भी बनी हुई है और आने वाले दिनों में भी बनी रहेगी। कांग्रेस यूपीए गठबंधन की धुरी रही है। उसके सत्ता से बाहर जाने के बाद यूपीए लगभग अस्तित्व विहीन हो गया है। इस पार्टी में यूपीए के पूर्व घटक के नेताओं को आमंत्रित किया गया था और वे भारी संख्या में वहां आए। एनसीपी के शरद पवार और प्रफुल्ल पटेल पार्टी में शामिल थे। कश्मीर के उमर अब्दुल्ला भी वहां मौजूद थे। डीएमके की कनिमारी वहां आई थीं। तृणमूल की ममता बनर्जी ने अपने प्रतिनिधि वहां भेजे थे। एआइएडीएमके और बीजू जनता दल के प्रतिनिधि भी पार्टी में मौजूद थे।

Pin It