सोते रहते हैं एसएसपी और लुटता रहता है जिला गाजियाबाद

सोते रहते हैं एसएसपी और लुटता रहता है जिला गाजियाबाद

  • धरने पर बैठी रोली मिश्रा ने कहा गाजियाबाद में पहले एक ब्राह्मïण पत्रकार की हुई हत्या और अब एक ब्राह्मïण बिल्डर का हो गया अपहरण
  • लखनऊ में दिनदहाड़े हो गयी थी कमलेश तिवारी की हत्या तो इनाम में मिला गाजियाबाद जैसा महत्वपूर्ण जिला
  • राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के करीबी होने की चर्चा से मजबूत है कुर्सी नैथानी की तो क्यों चिंता करें अपराध रोकने की
  • गाजियाबाद में बेकाबू हो रहे हैं अपराध, पुलिस सिर्फ कहानी बनाने में जुटी
  • बिल्डर विक्रम त्यागी की खोज के लिये लोगों ने दिया धरना
  • अब आठ माह के बच्चे को गन प्वाइंट पर लेकर बदमाशों ने डाली डकैती
  • एसएसपी कलानिधि नैथानी के बड़े रसूख के चलते नहीं बिगड़ा उनका कुछ भी
  • लखनऊ में भी तार-तार हो गयी थी उनके समय में कानून व्यवस्था

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। गाजियाबाद में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। जिले में लगातार हो रहे अपराधों के बावजूद गाजियाबाद पुलिस की कुंभकर्णी नींद टूट नहीं रही है। यहां पहले एक पत्रकार की दिनदहाड़े हत्या कर दी गई फिर एक बिल्डर का अपहरण कर लिया गया और अब डकैतों ने परिवार को बंधक बनाकर लूटपाट की लेकिन लगता है कि जिले के कप्तान कलानिधि नैथानी को इससे कोई मतलब नहीं है। बेकाबू अपराधों के बावजूद वे अपने रसूख के बल पर जमे हुए हैं। बताया जा रहा है कि राष्टï्रीय सुरक्षा सलाहकार के करीबी होने के कारण एसएसपी नैथानी बेफ्रिक हंै। इसके पहले जब वे लखनऊ में एसएसपी थे तब यहां दिनदहाड़े कमलेश तिवारी की हत्या हो गई थी और बाद में उनको गाजियाबाद जैसे अहम जिले का कप्तान बनाकर भेजा गया था।
गाजियाबाद में अपराध बेकाबू हो चुके हैं। शनिवार और रविवार को पूर्ण लॉकडाउन में भी यहां आपराधिक घटनाओं का सिलसिला बंद नहीं हुआ। रात नौ बजे के बाद कफ्र्यू लग जाने के बाद भी गाजियाबाद पुलिस क्राइम रोकने में नाकाम साबित हुई। लगता है पुलिस क्राइम कंट्रोल की बजाय चालान काटने को ही जरूरी समझती है। बिल्डर विक्रम त्यागी के अपहरण मामले को लेकर रोली मिश्रा के नेतृत्व में धरना दिया जा रहा है। रोली मिश्रा का कहना है कि यहां पहले एक ब्राह्मïण पत्रकार की हत्या हो गई फिर एक ब्राह्मïण बिल्डर का अपहरण हो गया लेकिन पुलिस कुछ नहीं कर रही है। अब गाजियाबाद के चिरंजीवी विहार निवासी किसान भोपाल शर्मा के घर हथियारबंद बदमाशों ने सोमवार रात डकैती डाली। डकैतों ने आठ माह के बच्चे को गन प्वाइंट पर लेकर चार घंटे तक लूटपाट की। बदमाशों ने महिलाओं के साथ अभद्रता भी की। पीडि़त परिवार के मुताबिक बदमाश आठ लाख रुपये के जेवर और एक लाख कैश लूटकर ले गए गए।

प्रियंका ने सीएम योगी को लिखा पत्र, कहा ठीक करें कानून व्यवस्था

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में खराब कानून- व्यवस्था को लेकर यूपी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है। पत्र में प्रियंका गांधी ने प्रदेश में बढ़ रहे अपहरण की घटनाओं पर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने लिखा है कि प्रदेश में लगातार अपहरण की घटनाएं बढ़ रही हैं। इससे जनता परेशान है। प्रियंका गांधी ने अपने पत्र में कानपुर, गोंडा और गोरखपुर की घटनाओं का जिक्र किया है। प्रियंका ने पत्र में लिखा कि लगभग एक महीने से गाजियाबाद के व्यवसायी विक्रम त्यागी गुमशुदा हैं। परिवार को आशंका है कि उनका अपहरण हो गया है। बार-बार शिकायत के बाद भी पुलिस- प्रशासन की तरफ से कोई ठोस एक्शन नहीं नहीं लिया जा रहा है। कृपया उनकी मदद करें और पुलिस अधिकारियों को सख्ती से निर्देशित करें कि पूरी तरह से उनके परिवार की सहायता की जाए। यूपी में अपहरण की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं। कानून-व्यवस्था को ठीक करें।

प्रदेश में अपराधियों का राज: मायावती

बसपा प्रमुख मायावती ने सूबे की योगी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश में बदमाशों और अपराधियों का राज है। आज कोई भी सुरक्षित नहीं है। मुख्यमंत्री के अपने शहर गोरखपुर में कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गई है। मायावती ने कहा कि वे चार बार यूपी की मुख्यमंत्री रही हैं। प्रदेश की मौजूदा सरकार को उनके शासन काल से सीख लेनी चाहिए।

नोएडा : बुजुर्ग महिला का घर में मिला शव, हत्या की आशंका

नोएडा। शहर के पॉश एरिया सेक्टर 15 स्थित एक मकान में अकेली रह रही बुजुर्ग महिला का संदिग्ध हालत में बाथरूम में शव पड़ा मिला। हत्या कर लूटपाट की आशंका जताई जा रही है। डीसीपी नोएडा संकल्प शर्मा का कहना है कि घर में किसी दबाव में प्रवेश नही हुआ है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता लगेगा कि हत्या कैसे हुई है, लेकिन प्राथमिक जांच में गला गला दबाकर हत्या की आशंका है। पुलिस लूटपाट की बात से इनकार कर रही है। मामले की छानबीन चल रही है।
बी-49 सेक्टर 15 स्थित मकान के प्रथम तल पर 70 वर्षीय संतोष कुमारी अकेली रहती थी। इनके पति की कुछ वर्ष पहले मृत्यु हो चुकी थी। इनके तीन बेटे हैं। बड़ा बेटा कुनाल यूके में आर्किटेक्ट हैं जबकि दो बेटे यूएस में अलग-अलग जगह रहते हैं। महिला यहां मकान के प्रथम तल पर रहती थी। मकान के ग्राउंड फ्लोर व द्वितीय तल उसने किराये पर दे रखा था, जिसमें कुछ लडक़े रहते हैं। संतोष कुमारी के छोटे बेटे मानव यूएस के एलबामा स्थित एक कंपनी मे सेल्स डायरेक्टर हैं। उनकी हर रोज मां से बात होती थी। सोमवार शाम के समय उन्होंने फोन किया तो मां का फोन नही उठा। आज सुबह फिर फोन किया जब फोन नही उठा तो उन्होंने यहां रहने वाले अपने दोस्त कुणाल को फोन किया। इसके बाद कुणाल करीब साढ़े नौ बजे सेक्टर 15 स्थित मकान पर पहुंचे। तबतक पड़ोस में रहने वाली एक महिला भी बुजुर्ग महिला के नही दिखने पर ढूढ़ते हुए पहुंची। उन लोगों ने देखा कि बुजुर्ग महिला का शव मकान के प्रथम तल पर बने बाथरूम में पड़ा था। इसके बाद सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। बेटे मानव के दोस्त कुणाल ने बताया कि चेहरे पर चोट हैं व घर से टेलीविजन गायब है। बेडरूम में सामान बिखरा है।

राम मंदिर भूमि पूजन के दिन देश में आतंकी हमले की साजिश

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। अयोध्या में पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। इस बीच पाकिस्तान की खुफिया एंजेंसी आईएसआई ने भूमि पूजन वाले दिन भारत में बड़े आतंकी हमले की साजिश रची है। आईएसआई ने आतंकियों को ट्रेनिंग देने के बाद भारत भेजा है। इस साजिश के खुलासे के बाद सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई हैं।
आईएसआई ने लश्कर और जैश के आतंकियों को विशेष हमले की ट्रेनिंग दी है। भारत की सबसे बड़ी खुफिया एजेंसी रॉ ने कहा है कि आईएसआई ने तीन से पांच आतंकियों को भारत भेजा है। इतना ही नहीं इन आतंकियों के निशाने पर 15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस का कार्यक्रम भी है।

विकास दुबे एनकाउंटर की जांच कमेटी से नहीं हटाए जाएंगे पूर्व डीजीपी

  • सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
नई दिल्ली। कानपुर शूटआउट के मुख्य आरोपी विकास दुबे के एनकाउंटर मामले की जांच कर रही कमेटी से पूर्व डीजीपी केएल गुप्ता को हटाने की मांग वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी है। अनूप अवस्थी ने याचिका दायर करके केएल गुप्ता को कमेटी से हटाने की मांग की थी।
याचिका में कहा गया था कि पूर्व डीजीपी केएल गुप्ता पहले ही पुलिस को क्लीन चिट दे चुके हैं। ऐसे में निष्पक्ष जांच कैसे हो सकती है। लिहाजा उनकी जगह पर किसी दूसरे को कमेटी में शामिल करना चाहिए। याचिका में हाइकोर्ट के पूर्व जज शशिकांत अग्रवाल को भी बदलने की मांग की गई थी। 10 जुलाई को उज्जैन से कानपुर लाए जा रहे विकास दुबे एक एनकाउंटर में ढेर हो गया था। इस एनकाउंटर को लेकर सवाल उठाए गए थे जिसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा था। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की जांच के लिए यूपी सरकार से दोबारा कमेटी बनाने को कहा था। कमेटी अभी जांच कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *