‘सोती फाउंडेशन का काम काबिले तारीफ’

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। सडक़ हादसे में अपने घर के चिराग को खोने के बाद सोती परिवार आंसुओं में डूब सकता था लेकिन किसी और के घर का चिराग न बुझने पाये इसके लिये सोती फाउंडेशन लगातार पांच साल से लोगों को यातायात नियमों के पालन करने के लिए जागरूक करने में लगे हैं। सोती परिवार के अंदर जो हिम्मत है उसकी सराहना जितनी की जाए कम है।
यह बातें एसजीपीजीआई के निदेशक प्रो. राकेश कपूर ने कही। वे संगीत नाटक अकादमी में शुभम् सोती फाउंडेंशन की तरफ से आयोजित पांचवेें स्थापना दिवस के अवसर पर संबोधित कर रहे थे। इससे पहले दीप प्रज्जवलित कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।
श्री कपूर ने कहा कि अक्सर प्यार में मां-बाप अपने नाबालिग बेटे को बाइक खरीद कर चलाने के लिये दे देते हैं लेकिन उसे यातायात के नियमों के बारे में कुछ नहीं बताते। उन्होंने कहा कि शुभम् फाउंडेंशन की तरफ से लगातार यातायात के नियमों के बारे में आम लोगों को जागरूक कर एक बहुत बड़ा कार्य किया जा रहा है। पूर्व निदेशक एसजीपीजीआई आरके शर्मा ने विदेश का उदाहरण देते हुये कहा कि यातायात को लेकर विदेश में जागरूकता है। जागरूक होने से ही यातायात नियमों का जहां पालन होगा वहीं सडक़ हादसे कम होंगे। हादसों में अपनों को खोने के बाद ही उसकी अहमियत पता चलती है। स्थापना दिवस में शुभम् सोती फाउंडेंशन के अध्यक्ष आशुतोष सोती और उपाध्यक्ष मुक्ता शर्मा, अपर पुलिस अधीक्षक बृजेश मिश्रा सहित कई लोगों ने सम्बोधित किया। कार्यक्रम में भरत नाट्यम नृत्य के पुरोधा एमआर कृष्णामूर्ति, प्रो. अमित अग्रवाल, शुभम् की बहन और अभिनेत्री अनायिका सोती सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित रहें। आशुतोष सोती ने आये हुये अतिथियों को स्मृति चिन्ह् देकर उम्मानित किया।
पुलिसकर्मियों का हुआ सम्मान
स्थापना दिवस में एसजीपीजीआई के निदेशक राकेश कपूर ने यातायात में अच्छा कार्य करने वाले पुलिसकर्मियों को सम्मनित किया। सम्मानित होने वालों में क्षेत्राधिकारी यातायात रणविजय सिंह, निरीक्षक शीतला प्रसाद पांडेय, उपनिरीक्षक पे्रमशंकर शाही, आनन्द कुमार ओझा, एचसीपी ज्वाला प्रसाद सिंह, ब्रह्मïाशंकर तिवारी, मुख्य आरक्षी ऐनुल हसन, सिपाही तिलेश्वर यादव, कमलेश यादव, प्रदीप तिवारी, भानु प्रताप राय और उदय सिंह शामिल है। सभी लोगों को स्मृति चिन्ह् और शॉल देकर सम्मानित किया गया। हालांकि अधिकतर पुलिसकर्मी ड्यूटी में व्यस्त होने के कारण उपस्थित नहीं हो पाये थे।
मैग्नेटिक बुलेट टे्रन का सजीव चित्रण
स्थापना दिवस के अवसर पर मैग्नेटिक बुलेट टे्रन का सजीव चित्रण किया गया। इंजीनियर अर्पित सिंघल ने चार फीट के टेबल पर बुलेट टे्रन को चलाया। अर्पित ने बताया कि चार फीट की इस टे्रन को बनाने में लगभग 35,000 रुपये खर्च हुये हैं।

मैत्रेयी का नृत्य देखकर लोग हुये मंत्रमुग्ध

प्रसिद्ध अभिनेत्री हेमा मालिनी के गुरू एमआर कृष्णामूर्ति की शिष्या मैत्रेयी प्रियदर्शनी शर्मा और उनकी सहयोगियों द्वारा प्रस्तुत अद्भुद नृत्य देखकर लोग भाव विभोर हो गये। मैत्रेयी और उनकी सहेलियों ने भरतनाट्य के कलाओं के माध्यम से लोगों का दिल जीत लिया। इस दौरान शाम्भवी और श्रेया ने भी अपनी कला को प्रस्तुत किया।

Pin It