सुविधाओं के अभाव से जूझता अलीगंज बाजार

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। अलीगंज मार्केट अपने आप में ही इतना मशहूर है कि शायद खूबियों के बारे में बताने की कोई जरूरत नहीं। इस मार्केट में हनुमान जी का मन्दिर होने के कारण दिन भर मन्दिर में दर्शन के लिये आने वाले श्रद्धालुओं का ताता लगा रहता है। मार्केट में कपड़ों व मोबाइलों के शोरूम के साथ ही सिनेमा हाल भी बना हुआ है। जिस कारण से लोग मन्दिर में तो आते ही है साथ ही अपनी जरूरत की चीजों की खरीदारी भी कर लेते हैं। इस कारण से इस मार्केट में आने वाले लोगों का तांता लगा रहता है। स्थानीय निवासियों व व्यापारियों ने बताया कि पहले के समय में यह मार्केट व क्षेत्र का आलम यह था की यह मार्केट अपने आप में ही गुलजार हुआ करती थी लेकिन आज आलम कुछ इस प्रकार का है कि मार्केट दिन पर दिन खुद पर ही आंसू बहाने को मजबूर होती जा रहा है।

स्थानीय व्यापारी एस.के. चौधरी ने बताया कि मार्केट की सबसे बड़ी समस्या पार्किंग की है। यहां पर पास में सेक्टर बी में एमजीएस के पास शाम होते ही लडक़ों का एक बड़ा हुजूम लगना शुरू हो जाता है ये लोग यहां पर बैठकर आपस में गलियां देतेे हैं व साथ ही आने जाने वाले लोगों के साथ कई बार गलत व्यवहार भी कर चुके हैं लेकिन मना करने पर झगड़ा करने लगते हैं इस कारण से लोग उन्हें मना करने से कतराते हैं। उनका कहना है कि वे लोग गाडिय़ों से वसूली भी करते हैं हम लोगों ने कई बार पुलिस से इसकी शिकायत की है लेकिन उसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।

कपड़ों के शोरूम के मालिक अनूप पाण्डेय ने बताया कि इस मार्केट में पार्किंग एक बड़ी समस्या है जिस कारण से दूसरे ऑफिसों के लोग भी सडक़ों पर व दुकानों के सामने अपनी गाडिय़ां खड़ी करके चले जाते हैं। जिस कारण से जाम लगने की समस्या उत्पन्न हो जाती है साथ ही मार्केट में आने वाले लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने बताया कि उनके शोरूम के पास ही सटे हुये बिजली के तार काफी नीचे लटक रहा हैं जिसके लिये उन्होंने बिजली के ऑफिस में कई बार शिकायत की लेकिन विभाग के कर्मचारियों ने शायद उसको सही करना आवश्यक नहीं समझा हमारे मन में हमेशा अनहोनी की घटना होने की आशंका को लेकर भय बना रहता है।

स्थानीय निवासी बी.सी. शर्मा (सेवानिवृत्त) ने बात चीत में बताया कि यहां की सबसे बड़ी परेशानी यह है कि यहां पर मार्केट में ही नगर निगम जोन तीन का आफिस बना है उसके बाद भी आस पास का क्षेत्र तो दूर की बात है नगर निगम आफिस के पीछे ही जब इतना गन्दा है तो आप खुद ही यह अनुमान लगा सकते हैं कि क्षेत्र में कितना अच्छा काम होता होगा। इस पर उन्होने एक जुमला कहा कि जिसका घर ही गन्दा हो तो वह बाहर को कितना साफ रखेगा । साथ ही यहां पर विक्रम चालक मनमाने तरीकों से उनका संचालन करते हंै पुलिस के लोग सिर्फ उनको देखते रहते है जबकि अगर देखा जाय तो शायद ही कोई ऐसा दिन गुजरता होगा जिस दिन एक्सीडेन्ट की वारदातें न होती हों।
स्थानीय व्यवसायी सफीक अहमद जो कि है उन्होंने बताया कि मार्केट में आने वालेलोग अपने वाहनों को सडक़ों के किनारे खड़ा करके अपने काम के लिये चले जातें है जिस कारण से लोगों को परेशानियां होती हैं साथ ही देखा जाय तो नगर निगम की वो गाडिय़ां जो कि सडक़ों के किनारे खड़े वाहनों को उठा ले जाती है वो यहां पर नहीं आती है अगर वो गाडिय़ां यहां पर चलना शुरू हो जाये तो इस मार्केट में जाम लगने की समस्या कम हो जायेगी साथ ही लोग अपनी गाडिय़ों को सही जगहों पर खड़ी करेंगे।

ए.एस. खान सामाजिक कार्यकर्ता है व साथ ही क्षेत्र में लोगों की मदद करते रहते हैं उन्होने बात चीत के दौरान बताया कि इस पूरे क्षेत्र को आम तौर पर सभी सुविधायें आसानी से मिल जाती हैं क्योंकि क्षेत्र में कई शिक्षण संस्थान अस्पताल, आईटीआई कॉलेज, सिनेमाघर के साथ ही अनेकों शोरूम आदि बने हुए हैं। लेकिन साथ ही इस पूरे क्षेत्र की सबसे बडी समस्या यह है यहां पर सडकों के किनारे गन्दगी रहती है व नगर निगम के कर्मचारी इस ओर ध्यान नहीं देते हैं। अगर यहां से गन्दगी खत्म हो जाये तो यह क्षेत्र पहले जैसा फिर से हो जायेगा।

Pin It