सीएम और डीएम के आदेश को स्कूल दिखा रहे ठेंगा

  • महावीर जयंती पर खुले रहे नेशनल पीजी कॉलेज और लामॉर्ट 
  • अवकाश की जानकारी नहीं होने का बनाया बहाना

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। प्रदेश में महावीर जयंती के मौके पर मुख्यमंत्री ने आज सार्वजनिक अवकाश घोषित किया था। इसी के मद्दनेजर डीएम राजशेखर ने भी सभी स्कूलों को बंद रखने के निर्देश दिए थे। अवकाश की सार्वजनिक घोषणा सरकार ने एक दिन पहले ही कर दी थी। इसमें राज्य सरकार के सभी कार्यालय व स्कूल बंद करने का निर्देश था। इसके बाद भी सरकार के निर्देशों को ठेगा दिखा कर कई स्कूल संचालकों ने आज स्कूल खोले रखा और अपनी मनमानी दिखाई।
राजधानी के निजी स्कूल सरकारी आदेश को पूरी तरह से ठेंगा दिखा रहे हैं। सार्वजनिक अवकाश होने के बाद भी आज कई स्कूल खुले रहे। इससे प्रबंधकों की मनमानी साफ जाहिर है। अक्सर इस तरह के मामले सामने आते रहते हैं जब सार्वजनिक तौर पर स्कूलों के बंद होने की नोटिस के बाद भी स्कूल प्रबंधन स्कूल खोले रखते हैं। आज भी महावीर जयंती के अवसर पर मुख्यमंत्री ने स्कूल व सरकारी कार्यालय व सभी स्कूलों व कॉलेजों को भी बंद करने का आदेश दिया था। इसकी जानकारी सभी को सोमवार को ही दे दी गई थी। इसके बावजूद आलमनगर में चित्रांश इंटर कॉलेज, सीएम आवास से कुछ दूरी पर लामॉर्ट स्कूल, नेशनल पीजी कॉलेज सहित कई स्कूल खुले रहे। इस तरह स्कूल प्रबंधन मुख्यमंत्री और डीएम के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे हैं।
इस तरह के मौकों पर अगर कोई अधिकारी निरीक्षण के लिए स्कूल पहुंच जाता है तो स्कूल संचालक उन्हें अक्सर यह कहकर टाल देते हैं कि हमने बच्चों को जयंती मनाने के लिए बुलाया है। सेलिब्रेशन के बाद बच्चों को घर भेज दिया जाएगा। जबकि अक्सर इन स्कूलों में जयंती नाम का सेलिब्रेशन नहीं किया जाता और बच्चों की छुट्टी भी नहीं होती। आलमनगर के स्कूल प्रबंधन ने इस संबंध में पूछे गए सवाल पर कहा कि हमें अवकाश की जानकारी ही नहीं थी। वहीं दूसरे स्कूलों ने अपने यहां टेस्ट व जयंती सेलिब्रेट करने का बहाना बनाया। मामले में जिलाधिकारी राजशेखर ने स्कूलों के खुले होने की जानकारी मिलते ही लामॉर्ट स्कूल सहित कई दूसरे स्कूलों को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है।

Pin It