सिर्फ भाजपा ने ही दिया मुस्लिमों को राज्यसभा जाने का टिकट

  • मुसलमानों की हितैषी बनने वाली पार्टियों ने जरूरत नहीं समझी मुस्लिमों को टिकट देने की
  • सपा के सात कैंडीडेट्स में एक भी नहीं है मुस्लिम
  • भाजपा के दो कैंडीडेट जा रहे हैं राज्यसभा

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में 2017 में विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में सभी दल मुस्लिम वोट को अपने खेमे में लाने की जीतोड़ कोशिशें करने में लगी हुई हैं। हालांकि, राज्य सभा की 57 खाली सीटों के लिए 11 जून को होने वाले चुनाव में एक चौंकाने वाला आंकड़ा सामने आया है। समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस सभी अपने आपको मुसलमानों का हितैषी कहती हैं, बावजूद इसके इन सभी पार्टियों ने एक भी मुस्लिम उम्मीदवार को राज्यसभा का टिकट नहीं दिया। इसके विपरीत बीजेपी, जिसे मुस्लिम विरोधी माना जाता है, वह दो मुस्लिम कैंडिडेट को राज्यसभा भेज रही है। बीजेपी के प्रवक्ता एमजे अकबर मध्य प्रदेश से राज्य सभा जा रहे हैं, जबकि केंद्रीय राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी झारखंड से उच्च सदन जाएंगे।
देश में राज्यसभा की 57 सीटों के लिए 11 जून को चुनाव होना है। इसके लिए उत्तर प्रदेश सहित अन्य राज्यों से राज्यसभा के लिए नामांकन हुआ है। उत्तर प्रदेश में सभी पार्टियों के उम्मीदवारों ने अपना-अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है। उत्तर प्रदेश में सपा ने अपने सात उम्मीदवारों की घोषणा की है जिसमे कोई भी मुस्लिम कैंडिडेट नहीं है। सपा ने जिन उम्मीदवारों को राज्य सभा भेजने का निर्णय लिया है उनमें हैं- अमर सिंह, बेनी प्रसाद वर्मा, रेवती रमण सिंह, संजय सेठ, एसएस यादव और वीपी निषाद। इतना ही नहीं इस बात को लेकर जामा मस्जिद के इमाम बुखारी ने सपा सुप्रीमो से मुलायम सिंह से मुलाकात कर मुस्लिम समाज से राज्य सभा में कोई प्रतिनिधित्व न होने पर ऐतराज जताया था।
इसके अलावा, बीएसपी ने भी अपने दो कैंडिडेट्स की घोषणा की है जिसमें पार्टी महासचिव सतीश चंद्र मिश्र और अशोक सिद्धार्थ को टिकट दिया गया है. कांग्रेस ने सपा के सपोर्ट से मैदान में कपिल सिब्बल को उतारा है। इसके अलावा, कांग्रेस मध्य प्रदेश, उत्तराखंड और कर्नाटक से भी किसी मुस्लिम कैंडिडेट को राज्य सभा नहीं भेज रही है। और तो और बिहार में महागठबंधन कर मुस्लिमों के समर्थन से विधान सभा चुनाव जीतने वाले लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार ने भी किसी मुस्लिम कैंडिडेट को राज्य सभा नहीं भेजा है। बिहार में पूर्व बीजेपी सांसद और वकील रामजेठ मलानी और लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती आरजेडी की टिकट से राज्य सभा जा रही हैं। वहीं जदयू से शरद यादव और रामचंद्र प्रसाद सिंह उम्मीदवार हैं।
किस राज्य में कितनी सीटों पर चुनाव?

एक मनोनीत और गुजरात की सीट को छोड़ दें तो इस माह 57 सीटों पर चुनाव होने हैं। इन 57 सीटों में सबसे ज्यादा 11 सीटें यूपी से है। तमिलनाडु और महाराष्टï्र से 6-6 सीटें हैं। बिहार से 5, राजस्थान, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश से 4-4 सीटें, मध्य प्रदेश और ओडिशा से 3-3, झारखंड, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, हरियाणा, पंजाब से 2-2 सीटें और उत्तराखंड की 1 सीट पर चुनाव कराए जाएंगे।
किस पार्टी की कितनी सीटें?
57 में सबसे ज्यादा कांग्रेस की 15 सीटें हैं। (गुजरात वाली सीट भी कांग्रेस की, वहां चुनाव साथ हुए तो कुल 16 होगी) बीजेपी की 13, बीएसपी की 6, जेडीयू 5, एआईएडीएमके की 3, एसपी और बीजू जनता दल की भी 3-3, टीडीपी, एनसीपी, डीएमके की 2-2, शिरोमणी अकाली दल, शिवसेना, निर्दलीय की 1-1 सीट शामिल हैं।

Pin It