सिटी ब्रीफ

अब दो साल का होगा बीपीएड का कोर्स
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय में पिछले वर्ष बीपीएड प्रवेश की आधी प्रक्रिया कराने के बाद भी कोर्स को किन्ही कारणों से बंद कर दिया गया था। अब नए सत्र से इसकी शुरूआत की जाएगी। इसमें प्रवेश इन्टे्रेंस के आधार पर होगा। इस बार बीपीएड का कोर्स एक साल की जगह दो वर्षों में पूरा कराया जाएगा। इसके लिए सेलेबस में भी बदलाव किया जा रहा हैं। इस संबंध में विवि प्रशासन का कहना हैं कि विभाग के पास इसका पाठयक्रम तैयार नहीं है। एमपीएड के कोआर्डिनेटर डा. नीरज जैन ने बताया कि हम लोगों ने इसका पाठयक्रम पूरी तरह से तैयार कर लिया है। एनसीटी रूल व रेग्यूलेशन 2014 के नियमों के साथ ही बीपीएड कोर्स की शुरूआत करेगें। प्रवेश के लिए अप्रैल में विज्ञापन निकाला जाएगा और कोशिश की जाएगी की दस मई तक प्रक्रिया पूरी हो जाए। इसमें प्रवेश के लिए पहले लिखित परिक्षा और उसके बाद प्रोफिशेंसी, फीजिकल टेस्ट एवं ग्रेजुऐशन के अंकों के आधार देखा जाएगा। हाईस्कूल व इंटर में लगभग 45 से 50 प्रतिशत अंक होना आवश्यक है। उन्होंने यह भी बताया कि पिछले समय केवल इस बात की जानकारी पाकर सैकड़ों छात्रों ने आवेदन फार्म भरे थे। बीपीएड में प्रवेश के लिए ऐसे बहुत से छात्र है जो बीपीएड शुरू होने का इंतजार कर रहे हैं। विवि प्रशासन से हरी झण्डी मिलते ही इसमें प्रवेश प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

बलरामपुर अस्पताल में सतत चिकित्सा शिक्षा कार्यक्रम का आयोजन
लखनऊ। राजधानी के बलरामपुर अस्पताल में स्थापना दिवस के अवसर पर मंगलवार को सतत्ï चिकित्सा शिक्षा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्ïघाटन स्वास्थ्य विभाग के महानिदेशक डॉ. सुनील श्रीवास्तव तथा परिवार कल्याण के महानिदेशक डॉ. एमआर ने किया। इस अवसर पर गंगाराम हॉस्पिटल के डॉ. राहुल सिंह ने बैरियाट्रिक सर्जरी के गुर बताए। उन्होने बताया कि इस सर्जरी के माध्यम से लोगों को मोटापे की समस्या से निजात मिलेगी। इसके बाद बलरामपुर अस्पताल के नेत्र सर्जन डॉ. संजय कुमार ने मोतियाबिंद के ऑपरेशन के लिए नयी तकनीक फेको विधि का प्रयोग लाइव करके दिखाया केजीएमयू के डिपार्टमेंट ऑफ ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन की विभागाध्यक्ष डॉ. तुलिका चंद्रा ब्लड के प्रयोग, प्रोफेसर उदय मोहन व्यस्क टीकाकरण और डॉ. मधुकर मित्तल ने डायबिटीज पर व्याख्यान दिया। तीन फरवरी को बलरामपुर अस्पताल का 147वां स्थापना दिवस समारोह अस्पताल के इमरजेंसी कॉम्प्लेक्स स्थित सभागार में मनाया जाएगा, इसमें मुख्य अतिथि स्वास्य राज्यमंत्री शंख लाल मांझी, डॉ. एसपी यादव, सुधीर कुमार रावत रहेंगे। इस मौके पर अस्पताल की स्मारिका का भी विमोचन किया जाएगा ।

मीटर लगाकर पानी देने का आदेश वापस ले सरकार: कांग्रेस
लखनऊ। प्रदेश सरकार ने सूबे के शहरी क्षेत्र में पानी का मीटर लगाने का आदेश दिया है। इस आदेश की कांग्रेस पार्टी ने कड़े शब्दों में निन्दा की है। समाजवादी पार्टी की सरकार पर चुनाव के दौरान किये गये वादों को पूरा करने की बजाय मुकरने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही सरकार से पानी का मीटर लगाने संबंधी आदेश तत्काल वापस लेने की मांग की है। प्र्रदेश कंाग्रेस के महासचिव मारूफ खान ने राजधानी समेत सूबे के अन्य जिलों के शहरी क्षेत्रों में पानी का मीटर लगाने संबंधी आदेश का कड़ा विरोध किया है। इस जनविरोधी निर्णय को जन विरोधी करार हेते हुए कहा कि विगत विधानसभा चुनाव से पूर्व समाजवादी पार्टी ने प्रदेश की जनता से बड़े-बड़े वादे किये थे। परन्तु सत्ता में आने के बाद चार वर्ष के अपने कार्यकाल में आम जनता की मूलभूत प्राथमिक सुविधाओं को भी पूरा करने में विफल साबित हुई है। हम अच्छी तरह जानते हैं कि शहरी क्षेत्रों में पेयजल की भारी समस्या है, आम जनमानस पानी के लिए त्राहि-त्राहि कर रहा है। इसके बावजूद प्रदेश सरकार का पानी का मीटर लगाने का निर्णय ले रही है, जो पूरी तरह से जनविरोधी है। इस तरह के आदेश को कांग्रेस पार्टी आम जनता की आधारभूत जरूरतों को पूरा करने की बजाय उन पर कुठाराघात करने वाला मानती है। उन्होंने यह भी कहा कि 2012 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी ने अपने घोषणापत्र में किसानों को मुफ्त बिजली और पानी देने का वादा किया था, इस वादे को वह आज तक पूरा नहीं कर सकी है। वर्तमान में बुन्देलखण्ड सहित पूरे प्रदेश का किसान बदहाली और भुखमरी का शिकार है। आम जनता महंगाई से त्रस्त है। ऐसे में प्रदेश सरकार अब किसानों और आम जनता की बदहाली दूर करने की बजाय शहरी क्षेत्र की जनता पर पानी के नाम पर अतिरिक्त बोझ डालने का कार्य कर रही है, जो किसी भी प्रकार से उचित नहीं है। इसलिए कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि वह पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं को पूरे प्रदेश में सुचारू रूप से उपलब्ध कराये।

Pin It