सिटी ब्रीफ

जस्टिस संजय मिश्रा कल लेंगे लोकायुक्त पद की शपथ
लखनऊ। जस्टिस संजय मिश्रा को कल राज्यपाल राम नाईक लोकायुक्त पद की शपथ दिलाएंगे। कार्यक्रम शाम पांच बजे राजभवन में होगा। इसको लेकर राजभवन में तैयारियां शुरू हो गई हैं। गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार सुबह न्यायमूर्ति संजय मिश्रा को उत्तर प्रदेश का नया लोकायुक्त नियुक्त कर दिया था। न्यायमूर्ति संजय मिश्रा इलाहाबाद उच्च न्यायालय के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश हैं। वह प्रदेश के पूर्व महाधिवक्ता और अपने जमाने के प्रसिद्ध संविधान विशेषज्ञ कन्हैया लाल मिश्र के पौत्र हैं। न्यायमूर्ति संजय मिश्र के चाचा एपी मिश्र उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश हैं। उनके पिता विजय प्रकाश मिश्र भी इलाहाबाद उच्च न्यायालय के प्रसिद्ध अधिवक्ता रहे हैं।

कायाकल्प की टीम पहुंची बलरामपुर अस्पताल
लखनऊ। राजधानी के बलरामपुर अस्पताल की व्यवस्था का जायजा लेने कायाकल्प की टीम शुक्रवार को अस्पताल पहुंची। इस दौरान टीम ने साक्ष्य जुटाने के लिए फोटोग्राफी भी की। माना जा रहा है कि शनिवार को भी टीम जांच पड़ताल करेगी। यदि अस्पताल को सफलता मिलती है, तो राष्टï्रीय स्वास्थ्य मिशन की ओर से वित्तीय सहायता उपलब्ध करयेगी। राष्टï्रीय स्वास्थ्य मिशन की कायाकल्प योजना के तहत सरकारी अस्पतालों में साफ-सफाई व्यवस्था चाक चौबन्द करनी थी। जिसमें स्वत मूल्यांकन के दौरान बलरामपुर अस्पताल फिसड्डी साबित हुआ था। इस बार फिर बलरामपुर अस्पताल स्वच्छता मूल्यांकन परीक्षा देने जा रहा है। 29 जनवरी को टीम निरीक्षण करने अस्पताल पहुंची है। इसे लेकर अस्पताल प्रशासन ने तैयारियां बहुत पहले से ही शुरू हो गयी थी। जिसके चलते करीब सौ से अधिक बड़े-छोटे फ्लैक्स ओपीडी व वार्डो के भीतर नजर आ रहे हैं। गत माह में राजधानी के जिला स्तरीय नौ अस्पतालों ने स्वत: मूल्यांकन किया गया था, जिसमें वीरांगना अवंतीबाई महिला चिकित्सालय (डफरिन) 96.6 प्रतिशत अंक पाकर अव्वल रहा था। वहीं, बलरामपुर अस्पताल 67 प्रतिशत अंक मिलने पर योजना की दौड़ से बाहर हो गया था। इसी प्रकार भाऊराव देवरस संयुक्त चिकित्सालय 63.4 और ठाकुरगंज हास्पिटल 57.6 प्रतिशत अंक पाकर फेल हो गये थे।

रेल हादसों को लेकर शिवपाल गंभीर, रेल मंत्री से करेंगे बात
लखनऊ। यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव रेल हादसों को लेकर काफी गंभीर हैं। उन्होंने रेलवे के अधिकारियों को निर्देश दिये कि रेलवे उपरिगामी सेतुओं के निर्माण ने लापरवाही न हो। यदि रेलवे उपरिगामी सेतुओं को समय से नहीं पूरा करा सकते हैं तो राज्य सरकार को वापस कर दे। शिवपाल यादव ने आगे कहा कि लोक निर्माण विभाग सभी कार्यों को करने में स्वयं सक्षम है। उन्होंने रेलवे अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि हर-हाल में छह महीने के अन्दर सभी उपरिगामी सेतुओं को पूर्ण किया जाये। लोक निर्माण मंत्री ने कहा कि यदि आवश्यकता हुई तो वह स्वयं रेल मंत्री से मिलकर रेल उपरिगामी सेतुओं के निर्माण में की जा रही लापरवाही/शिथिलता से अवगत करायेंगे।

Pin It