सिटी ब्रीफ

एलयू में पीएचडी प्रवेश पर बढ़ा विवाद
लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय के पीएचडी प्रवेश में एक और विवाद खड़ा हो गया है। इस बार प्रवेश और नेट पास करने वाले अभ्यर्थियों ने प्रवेश प्रक्रिया को पक्षपातपूर्ण बताया है। हिंदी विभाग में नेट की 25 सीटें है। इनमें सारी सीटों पर जेआरएफ को ही एडमिशन दिया गया है। बुधवार को रवींद्र प्रताप सिंह के नेतृत्व में कुछ छात्रों ने कुलपति कार्यालय में इसकी शिकायत की। छात्रों का कहना है कि सिर्फ जेआरएफ को ही प्रवेश देना था, तो प्रवेश का प्रावधान ही क्यों किया गया। इस पर हिंदी के विभागाध्यक्ष कालीचरण स्नेही का कहना है कि कमेटी को जो सही लगा, उन्हें एडमिशन दिया गया है।कोर्ट खुलते ही दायर होगी रिट छात्र राघवेंद्र का आरोप है कि यह एडमिशन जान बूझकर ऐसे समय पर दिये गए जब कोर्ट बंद है। ऐसे में इन पर स्टे भी नहीं करा सकते हैं। कोर्ट खुलते ही हम लोग इस पर रिट दायर करेंगे। हमारा प्लॉन है कि एलयू का पीएचडी ऑर्डिनेंस में जेआरएफ को जानबूझकर बीस नंबर का अधिक लाभ दिया गया। वहीं एंट्रेंस से आने वाले अभ्यर्थियों के लिए सीटों में कोई वेटेज न देकर उनके साथ पक्षपात किया गया।

सफेद दाग और मुंहासे से मिलेगी निजात
लखनऊ। चेहरे के दाग धब्बों से मिलेगा छुटकारा । गांठे हो या फिर दाग दवाओं से लाभ नहीं मिला तो डरमा सर्जरी कारगर उपाय हो सकता है। यह सुविधा बलरामपुर अस्पताल में एक जनवरी से शुरू होगी। आगे चलकर सफेद दाग, चेहरे में झुर्रियों, मुहासे से छुटकारा दिलाने की सर्जरी होगी। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा. राजीव लोचन ने बताया कि एनबीओबी रेजर तकनीक की सर्जरी के लिए 72 लाख रुपये के बजट का प्रस्ताव भेजा चुका है। इस सुविधा से सफेद दाग, चेहरे पर काले निशान से छुटकारा मिलेगा।

Pin It