सिटी ब्रीफ

दूषित पानी की समस्या से जूझ रहा पुराना लखनऊ

लखनऊ। चौक के लाजपत नगर में कर्ई दिनों से पीला व बदबूदार पानी आने से लोग परेशान हैं। लोगों को मजबूरी में दूषित पानी का उपयोग करना पड़ रहा है। वहीं क्षेत्रीय निवासी को डर सता रहा है कि दूषित पानी के उपयोग से कहीं परिवार में बीमारियों का अंबार न लग जाए। उधर, नक्खास के शाह गंज इलाके में दो-तीन दिनों से दूषित पानी से लोग परेशान है। लोगों का कहना है कि कई बार इसकी जल संस्थान में शिकायत की गई है किन्तु अब तक सिर्फ आश्वासन ही मिला है। चौके क्षेत्र के लाजपत नगर में पिछले कई दिनों से पीला व बदबूदार पानी आने से लोग पेरशान हैं। लोगों को सबमर्सिबल व दूर लगे हैण्डपम्पो का सहारा लेना पड़ रहा है। वहीं क्षेत्रीय निवासियों की माने तो इसकी कई बार लिखित शिकायत की गई। इसके बाद दो बार जेई अपनी टीम के साथ यहां आये किन्तु अब तक यथा स्थति बरकरार है। वहीं नक्खान के शाहगंज इलाके में पिछले दो-तीन दिनों से दूषित पानी आने से लोगों का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। लोगों के अनुसार पीला व बदबूदार पानी पीने के लिए तो दूर किसी अन्य कामों में नहीं प्रयोग किया जाता है।

वीसी ने की छात्रों से काम पर वापस आने की अपील

लखनऊ। यूपीपीजीएमई कांउसलिंग से उठे विवाद की तपिस पूरे प्रदेश में नजर आ रही है। बीते तीन दिनों में रेजीडेंट डॉक्टरों के हड़ताल के चलते केजीएमयू सहित अन्य मेडिकल कालेज में मरीजों के इलाज पर भारी पड़ रहा है। हालांकि केजीएमयू के वीसी ने रेजीडेंट डॉक्टरों से काम पर लौटने की अपील की है। उन्होंने हड़ताल कर रहे डॉक्टरों का पक्ष सुप्रीम कोर्ट में रखने की बात कही है। हड़ताल कर रहे डॉक्टरों की माने तो उनके पास इसके सिवाय और कोई रास्ता भी नही बचा था। उनकी बात न सुने जाने की वजह से ही रेजीडेंट डॉक्टरों ने यह कदम उठाया है। कांउसलिंग के वर्तमान प्ररूप का विरोध कर रहे रेजीडेंट डाक्टर हड़ताल पर जाने से पहले शांति पूर्वक मरीजों का इलाज करते हुए अपना पक्ष रख रहे थे। जब उनकी बात पर ध्यान नही दिया गया तो उन्होने हड़ताल पर जाने का फैसला किया। उनके हड़ताल पर जाने का असर मेडिकल कॉलेज में होने वाले ऑपरेशन पर पड़ा। न्यूरो से लेकर लगभग सभी विभागों जैसे आर्थो, यूरो, कॉर्डियो, जनरल सर्जरी आदि में मरीजों के ऑपरेशन टाले जा रहे हैं, जिनकी संख्या दर्जनों में है। वरिष्ठï चिकित्सकों ने स्वीकार किया कि जूनियर डॉक्टर मरीज के इलाज से लेकर ऑपरेशन तक में खासे मददगार होते हैं। लिहाजा उनके न होने से ऑपरेशन प्रभावित हो रहे हैं। बशर्ते, जिसका ऑपरेशन अत्यधिक आवश्यक है उनका किया जा रहा है।

Pin It