सावधान! ऑनलाइन शॉङ्क्षपग व एटीएम का इस्तेमाल करने वालों पर हैकर्स की नजर

तेजी से पांव पसार रहे हैकर्स व एटीएम चोर, कभी भी बना सकते हैं आपको निशाना

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क

Captureलखनऊ। सावधानी हटी, दुर्घटना घटी- यह कहावत ऑनलाइन शॉपिंग, क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल और एटीएम से कैश निकालते समय सावधानी नहीं बरतने वालों पर सटीक बैठती है। हाल ही में लखनऊ में ऑनलाइन शॉपिंग और एटीएम मशीन से कैश निकालने के दौरान ग्राहक को हजारों रुपये का चूना लगाने वाले लोगों का मामला सामने आया है। इसने पुलिस विभाग और ग्राहकों के माथे पर चिन्ता की लकीरें पैदा कर दी हैं। इसलिए ग्राहकों को आनलाइन शॉपिंग करने के साथ ही एटीएम का इस्तेमाल भी सावधानी से करना होगा।
विकास नगर निवासी रेलवे के रिटायर्ड अधिकारी डीके श्रीवास्तव दो दिन पहले एसबीआई के क्रेडिट कार्ड का ऑनलाइन स्टेटमेंट चेक कर रहे थे। उन्होंने बैंक की वेबसाइट में अपना यूजरनेम और पासवर्ड डाला। इसके बाद भी उनका ऑनलाइन अकाउंट नहीं खुला। तीन-चार बार यूजर नेम और पासवर्ड डालने के बावजूद अकाउंट नहीं खुला। इसी बीच उनके पास एक फोन आया, जिसमें कॉल करने वाले ने पूछा कि क्या आप ऑनलाइन खाता चेक कर रहे हैं? इसे बैंक से आने वाली कॉल समझकर डी के श्रीवास्तव ने हां में जवाब दिया। तब कॉल करने वाले ने 24 घंटे के लिए सर्वर डाउन होने का हवाला देते हुए कहा कि अभी आप स्टेटमेंट नहीं देख सकते लेकिन क्रेडिट कार्ड से खरीदारी कर सकते हैं। इस घटना के बाद गुरुवार को पीडि़त ने अपनी ई-मेल आईडी चेक की तो मालूम हुआ कि उसका अकाउंट हैक कर किसी ने 83696 रुपये की ऑनलाइन शॉपिंग कर ली है। इसके साथ ही बैंक की तरफ से खरीदारी न करने की स्थिति में कस्टमर केयर पर कॉल करके शिकायत दर्ज कराने संबंधी सलाह भी दी गई थी। पीडि़त ने तत्काल बैंक के कस्टमर केयर पर कॉल किया, जहां उनको बताया गया कि सारी चीजें पूर्ववत हैं लेकिन उनका मोबाइल नंबर बदल दिया गया है। तब उन्हें अपना अकाउंट हैक होने की जानकारी मिली।

ऑनलाइन शॉङ्क्षपग के दौरान बरतें सावधानियां
बैंक के नाम पर उपभोक्ता के पास आने वाले फोन को गंभीरता से लें। कॉल करने वाला व्यक्ति आपसे यूजर नेम, पासवर्ड, एटीएम का नंबर और पिन नंबर पूछे तो सतर्क हो जाएं। बैंकों की तरफ से कभी भी अपने उपभोक्ता से ऐसी जानकारी फोन करके नहीं मांगी जाती है। इसलिए फोन करने वाले को कोई भी जानकारी देने से स्पष्ट मना कर दें। इसके बाद फोन करने वाले के खिलाफ पुलिस विभाग में शिकायत दर्ज करवा दें। इसी प्रकार एटीएम से पैसे निकालते समय अपना एटीएम किसी अन्य को बिल्कुल भी न दें। अपना पासवर्ड बहुत ही गोपनीय ढंग से भरें। कैश निकलने व रसीद हाथ में लेने के बाद तब तक रूकें, जब तक एटीएम में नई प्रोसेस का डिप्ले स्क्रीन पर न आ जाए। ऐसा करने से आप राजधानी में सक्रिय हैकर्स और एटीएम चोरों का शिकार होने से बच सकते हैं।

सूझ-बूझ से बचे दस हजार रुपए
इसी प्रकार चारबाग रेलवे स्टेशन पर एसबीआई से एटीएम से कैश निकाल रहे एक युवक को एटीएम चोर ने 10 हजार रुपये का चूना लगाया लेकिन ग्राहक की सूझबूझ से चोर पकड़ा गया। दरअसल चारबाग स्टेशन पर बुधवार की रात एसबीआई के एटीएम से पीयूष कुमार राय पैसा निकाल रहे थे, लेकिन पैसा नहीं निकला। इस बीच उनके पीछे खड़े युवक ने पीयूष से कहा कि उसको इमरजेंसी है। इसलिए आप दोबारा कार्ड स्वाइप करके पैसा निकाल लीजिएगा। यह सुनकर पीयूष बाहर आ गये और अपने पीछे खड़े व्यक्ति को एटीएम के अंदर जाने दिया। इसके बाद पीयूष के पीछे खड़े जालसाज उमेश कुमार यादव ने दिखावे के लिए अपना एटीएम कार्ड मशीन में टच किया और एटीएम में 10 हजार रुपये भरकर पैसे निकाल लिए। इसके तुरंत बाद एटीएम के बाहर तेजी से निकल गया। इस्तेफाक की बात है कि तत्काल पीयूष के मोबाइल पर एक मैसेज आ गया, जिसमें उसके एटीएम से दो सेकंड पहले 10 हजार रुपये निकालने का विवरण था। इस मैसेज को देखते ही पीडि़त को उमेश पर शक हुआ। वह उस युवक को पकडक़र जीआरपी ले आया। वहां एसआई पुष्पलता दीक्षित ने युवक की तलाशी ली तो उसके पास से करीब पांच एटीएम और एटीएम से निकाले गए 10 हजार रुपये बरामद हुए। इनमें से तीन एटीएम व एक मोबाइल फोन चोरी का था। इस मामले को गंभीरता से लेकर एटीएम चोर के खिलाफ धोखाधड़ी और चोरी का मामला दर्ज कर जेल भेज दिया गया।

Pin It