सात महीने बाद एक बार फिर लकीर पीटने निकला नगर निगम

  • पॉलिथीन पाबंदी अभियान के तहत 10 लोगों का चालान, दर्जनों को दी गई चेतावनी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। सात-आठ महीने की सुस्ती के बाद आखिरकार नगर निगम को होश आ ही गया। पॉलिथीन पाबंदी अभियान भूल चुके नगर निगम के अधिकारियों ने एक बार फिर से पॉलिथीन बैन अभियान शुरू कर दिया है। इस अभियान के तहत शुक्रवार को 10 लोगों का चालान किया गया। चारबाग में दर्जनों दुकानदारों को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया। अधिकारियों ने दुकानदारों को पॉलिथीन का इस्तेमाल न करने की हिदायत दी। इस बीच दुकानदारों ने टीम की कार्रवाई का विरोध भी किया।
टीम ने व्यापारियों को बताया कि निराश्रित कूड़ा कचरा अधिनियम के तहत पॉलिथीन की थैलियों को प्रतिबंधित किया गया है। कूड़े में पॉलिथीन फेंकने या इसमें कोई खाद्य पदार्थ रखकर फेंकने पर चालान के निर्देश दिए गए हैं। नगर निगम के सेनिटरी इंस्पेक्टर आशीष पांडेय ने बताया कि दुकानदारों ने कार्रवाई का विरोध किया, लेकिन कूड़े में पॉलिथीन फेंकने वाले संतोष विश्वकर्मा, विजय कुमार, सर्वेश श्रीवास्तव, मंगूलाल प्रजापति, मूलचंद, कनिष्क, पवन कुमार, सियाराम वाल्मीकि, नरेंद्र और पंकज का चालान किया गया। उधर, पटरी दुकानदारों ने टीम का विरोध भी किया। दुकानदारों का कहना है कि नगर निगम वाले बड़ी दुकानदारों पर अभियान के तहत कार्रवाई नहीं करते हैं, हम छोटे पटरी दुकानदारों को डराने और रोजी-रोटी छीनने चले आते हैं। वहीं दुकानदारों का कहना है कि पॉलिथीन पाबंदी को लेकर अखबारों में कोई जानकारी भी नहीं दी गई है, तो हम लोगों को कैसे पता चलेगा कि कब से पाबंदी पर रोक लगाई गई है।

Pin It