साउथ सिटी में डकैतों ने बुजुर्ग दंपति को बनाया निशाना

लखनऊ में दस दिन के भीतर दूसरी बड़ी डकैती

  • एक बार फिर हाइटेक पुलिस की कार्य प्रणाली पर उठे सवाल 
  • लगभग तीन घंटे तक डकैतों ने खंगाला घर
  • दरवाजे का लॉक तोड़ घर में घुसे थे डकैत

014पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। राजधानी में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। एक के बाद एक ताबड़तोड़ लूट और डकैती की वारदातें हो रही हैंं। लोगों में अपनी सुरक्षा को लेकर दहशत का माहौल व्याप्त है। पुलिस की निष्क्रियता की वजह से लोग खुद ही रात-रात भर जागकर ‘जागते रहो’ बोलकर लोगों को सतर्क कर रहे हैं। इस सबके बावजूद दस दिन के भीतर राजधानी में आज डकैती की दूसरी वारदात को अंजाम देेने में बदमाश सफल रहे हैं। इस बार बदमाशों ने साउथ सिटी में रहने वाले बुजुर्ग दंपति को अपना शिकार बनाया है। आज तडक़े डकैतों ने बेखौफ होकर वारदात को अंजाम देने के साथ ही पुलिस को एक बार फिर चुनौती दी।
राजधानी में डकैती व लूट की घटनाएं ताबड़तोड़ हो रही है। पिछले दस दिन में शहर में डकैती की दो व हाई सिक्योरिटी जोन में बेखौफ बदमाशों ने दिन दहाड़े दो लूट की घटनाओं को अंजाम दिया। पुलिस की निष्क्रियता की वजह से पुलिस के लॉकअप से एक हफ्ते में दो आरोपी फरार हो गए। आज साउथ सिटी में आधा दर्जन डकैतों ने तडक़े एक बुजुर्ग दंपति को अपना निशाना बनाया। डकैती का विरोध करने पर बदमाशों ने बुजुर्ग दंपति के साथ मारपीट की। सूचना पर पहुंची पुलिस ने बदमाशों की तलाश में क्षेत्र में काम्बिंग की लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। एसपी नगर उत्तरी विजय ढुल ने बताया कि मौके पर डॉग स्क्वायड व फिंगर प्रिंट की टीम को बुलाया गया।

घटना की जानकारी होने पर आईजी जोन, डीआईजी व एसएसपी मौके पर पहुंचकर मुआयना किए। अभी दंपति से पूछताछ की जा रही है। मामले में तीन संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।
पुलिस के मुताबिक रेलवे के रिटायर्ड इंजीनियर रमाकान्त गुलाल पत्नी इन्दु श्रीवास्तव के साथ सपरिवार साउथ सिटी के सेक्टर- सी मकान नंबर-237 में रहते हैं। दंपति रोजाना की तरह शुक्रवार को खाना खाने के बाद सो गए। देर रात करीब डेढ़ बजे मुंह ढक़े छह बदमाश उनके ड्राइंग रुम में घुस आए। उन्होंने इन पर हमला कर दिया। इस दौरान चीख सुनकर उनकी पत्नी जाग गई। इस पर कुछ बदमाश उनकी पत्नी पर लपके। मारपीट के बाद बदमाशों ने उनसे अलमारी की चाबी छीन ली और उन्हें कमरे में बंधक बना लिया। बदमाशों ने लगभग साढ़े तीन घंटे घर में तांडव किया। उन्होंने बेफ्रिक होकर आराम से घर को खंगाला। बदमाशों ने लाखों की कीमत के जेवरात के साथ हजारों रुपये की नकदी को लेकर फरार हो गए। रमाकान्त ने बताया कि डकैत लगभग घर से सुबह तडक़े चार बजे गए हैं। उनके जाने के बाद उन्होंने शोर मचाकर पड़ोसियों से मदद मांगी। पड़ोसियों ने बुजुर्ग दंपति को कमरे से बाहर निकाला। इसके बाद उन्होंने डकैती की सूचना पीजीआई पुलिस को दी। उन्होंने बताया कि बदमाश मेन दरवाजे का लॉक तोडक़र घर में घुसे थे। बदमाशों ने लोहे के राड से दरवाजे का लॉक तोड़ा था। बदमाशों ने गमछे से चेहरा ढक रखा था। सभी के पास असलहा था। वह आपस में आम बोलचाल भाषा का प्रयोग कर रहे थे। मौके पर पहुंचे पीजीआई एसओ विनोद कुमार यादव ने इसकी सूचना उच्च अधिकारियों को दी। पुलिस ने आस-पास काम्बिंग की लेकिन कोई सफलता नहीं मिली।

खोजी कुत्ते की शिनाख्त पर पकड़े गए मजदूर
पुलिस ने घटना स्थल पर डॉग स्क्वायड की टीम को बुलाया। टीम का खोजी कुत्ता घटना से लगभग सात मीटर की दूरी पर एक छोटे से मकान के सामने रुक गया। इसके बाद पुलिस ने घर में प्रवेश किया तो वहां पर तीन मजदूर मिले। पुलिस मजदूरों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। पुलिस के मुताबिक बदमाशों को पता था कि रमाकांत कुछ दिन पहले ही बैंक से नकदी लेकर आए थे। बदमाशों ने रमाकान्त से पूछा था कि जो पैसा बैंक से लेकर आए थे, वह कहां पर रखा है।

बदमाशों की धरपकड़ के लिए दो टीमें बनायी गयी हैं। मामले के खुलासे के लिए क्राइम ब्रांच की टीम को भी लगाया गया है। जांच के दौरान कुछ अहम जानकारी मिली है। उम्मीद है कि जल्द ही मामले का खुलासा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि मैं घटना स्थल पर गया था। मैंने साउथ सिटी के नागरिकों को रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन बनाने का सुझाव दिया है। उनकी सुरक्षा को लेकर हम लोग गंभीर हैं। पुलिस उनकी सभी प्रकार से मदद करेगी, लेकिन उन्हें भी पुलिस का सहयोग करना चाहिए।
-आरकेएस राठौर, डीआईजी

Pin It