साइकिल टै्रक बनाने में रुचि नहीं दिखा रहे अधिकारी

आवास विकास एवं एलडीए पर काम में लापरवाही बरतने का आरोप
समीक्षा बैठक में रुके कामों को महीने भर के अंदर शुरू करने का निर्देश

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। मुख्यमंत्री की महत्वपूर्ण साइकिल ट्रैक परियोजना को लेकर प्राधिकरण व आवास एवं विकास परिषद को कोई रुचि नहीं है। एलडीए को कुल 42.23 किमी लंबाई के साइकिल ट्रैक का निर्माण कराना था लेकिन इसके सापेक्ष अभी तक 1.20 किमी लंबाई का ट्रैक का निर्माण ही पूरा किया जा सका है। वहीं आवास एवं विकास परिषद ने 14.90 किमी लंबाई में से 6.30 किमी ट्रैक का निर्माण पूरा किया है।
झांसी, उन्नाव, बांदा व उरई विकास प्राधिकरण में परियोजना को लेकर स्थिति और भी बुरी है। पर्यावरण और ईधन बचत के लिए पूरे प्रदेश में साईकिल ट्रैक निर्माण के लिए मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए थे। इस परियोजना को लक्ष्य के मुताबिक समय पर पूरा करने के लिए समय समय जिलाधिकारियों के माध्यम से भी समीक्षा की जा रही है। इसके बावजूद निर्माण की प्रगति काफी धीमी है। उत्तर प्रदेश आवास एवं विकास परिषद ने अपने क्षेत्र में कुल 14.90 किमी लंबाई के साईकिल टै्रक निर्माण की कार्ययोजना तैयार की है। इसके सापेक्ष वर्तमान में 6.30 किमी लंबाई के टै्रक निर्माण का कार्य प्रगति पर है। वहीं एलडीए के 42.23 किमी में से 1.20 किमी पूरा हो चुका है जबकि 1.15 किमी पर कार्य प्रगति में है। हाल ही में समीक्षा बैठक में एलडीए ने बाकी के टै्रक निर्माण के लिए जल्द शुरू होने का दावा किया है। कानपुर विकास प्राधिकरण को 5.40 किमी ट्रैक का काम चल रहा है। रायबरेली में 1.30 किमी ट्रैक अभी बन रहा है। वहीं झांसी, उन्नाव, बांदा तथा उरई विकास प्राधिकरण में साईकिल ट्रैक निर्माण की कोई योजना ही नहीं बनाई गई है। इस पर सचिव आवास ने एक महीने में स्थल का चयन कर निर्माण कार्य शुरू करने के निर्देश दिए हैं।

Pin It