सरकार ने दिए संगीत सोम के कारनामों की जांच के आदेश, कमिश्नर मेरठ करेंगे जांच

संगीत सोम मामले पर 4 पीएम के खुलासे के बाद देश भर में हंगामा

4 पीएम की खबर का देश भर में हुआ असर, फेसबुक पर सैकड़ों लोगों ने की खबर शेयर और हजारों लोगों ने किया लाइक
M1मुख्यमंत्री ने लिया संज्ञान, मेरठ के कमिश्नर से कहा 5 जिलों में सोम की जमीन की धांधली की करें जांच और एक महीने में सौंपें अपनी रिपोर्ट सोम के इस खुलासे से भाजपा भी भौचक

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। हिन्दुत्व के पैरोकार बनकर राजनीति करने का सपना देख रहे भाजपा विधायक संगीत सोम अब खुद फंस गए हैं। 4पीएम ने जैसे ही खुलासा किया कि संगीत सोम ने 5000 जानवर रोज काटने की अनुमति मांगी थी तो राजनीतिक भूचाल खड़ा हो गया। अगले दिन देश के सभी बड़े अखबारों और टीवी चैनलों पर यह खबर आग की तरह फैल गई। संगीत सोम ने इस स्लाटर हाऊ स को खोलने के लिए अलीगढ़ में जमीन खरीदी थी। इसके अलावा मेरठ और आस-पास के कई जिलों से सूचना आई कि संगीत सोम ने जमीनों का बड़ा अवैध कारोबार खड़ा किया है। सरकार ने अब इस मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं। इस आदेश के बाद भाजपा नेताओं को समझ आ गया कि संगीत सोम के बहाने सरकार साबित करेगी कि हिन्दुत्व की आड़ में उसके नेता क्या गुल खिला रहे हैं।
सरकार ने मेरठ के कमिश्नर को आदेश दिया है कि वह अफसरों की टीम बनाकर मेरठ, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद, नोएडा और मथुरा में संगीत सोम द्वारा खरीदी गई जमीनों की विस्तार से पड़ताल करें और यह देखें कि इनमें से ऐसी कौन-कौन सी जमीनें हैं जिन पर सोम ने कब्जा किया है।
मेरठ के कमिश्नर को इस बात का भी आदेश दिया गया है कि संगीत सोम पर जो नौ एफआईआर दर्ज हैं उनकी भी पड़ताल करें और देखें कि इन एफआईआर में अभी तक क्या-क्या कार्रवाई की गई है। जाहिर है अब सरकार इस मोड में आ गई है कि संगीत सोम जिस तरह से माहौल खराब करके सरकार को घेरने की तैयारी कर रहे थे उसका जवाब दे दिया जाए। जाहिर है अगर सरकार ने साबित कर दिया कि संगीत सोम ना सिर्फ मांस का कारोबार करना चाहते थे बल्कि कई जिलों में जमीनों के अवैध धंधों में भी लिप्त हैं तो भाजपा को अपना चेहरा बचाना मुश्किल हो जाएगा।
उल्लेखनीय है संगीत सोम अपने उग्र बयानों से हिन्दुत्व का माहौल तैयार करते रहे हैं। उनकी इसी उपलब्धि के
चलते मोदी सरकार ने उनको जेड प्लस सुरक्षा दे रखी है। अब जब संगीत सोम का यह कारनामा सामने आया है तो भाजपा नेताओं को समझ नहीं आ रहा कि वह सोम के मांस कारोबार का बचाव किस तरह करें।

संगीत सोम का काम शर्मनाक: साध्वी प्राची
संगीत सोम के मांस कारोबार से जुड़े होने के खुलासे के बाद अब हिन्दूवादी नेता भी उनकी आलोचना करने लगे हैं। फायर ब्रांड नेता साध्वी प्राची ने भी कहा है कि यदि संगीत सोम मीट फैक्ट्री के डायरेक्टर हैं तो यह शर्मनाक है। उन्होंने कहा कि समाज में दोगला चेहरा नहीं होना चाहिए, जो जानवरों को बेरहमी से काट सकते हैं वह कुछ भी कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि मीट का कारोबार करने वाले लोग तो गाय को भी काट देते हैं, जाहिर है कि जो गाय को काट सकता है वह अपनी मां को भी काट सकता है। साध्वी का यह बयान साफ करता है कि अब सोम अकेले पड़ गए हैं।

प्राची कोई जज नहीं जो फैसला दें:सोम
अपने कारोबार के खुलासे के बाद विहिप के नेताओं की टिप्पणी से भाजपा विधायक संगीत सोम बौखला गए हैं। साध्वी प्राची द्वारा उनके ऊपर की गई टिप्पणी से नाराज संगीत सोम ने कहा कि साध्वी प्राची कोई जज नहीं है जो फैसला सुना दें। उन्होंने कहा कि उन्हें साजिशन फंसाया जा रहा है। वह अंडा तक नहीं खाते लेकिन लोग उनके मीट खाने की बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनकी लोकप्रियता से सरकार बौखला गई है इसलिए उन्हें फंसाने की कोशिश की जा रही है। मगर जल्दी ही सच्चाई देश भर के सामने आ जाएगी और वह निर्दोष साबित होंगे।

राजनीति में दोहरा चरित्र ठीक नहीं: ज्ञानेन्द्र
न्यूज वल्र्ड इंडिया चैनल के यूपी हेड ज्ञानेन्द्र शुक्ला का कहना है कि राजनीति में दोहरा चरित्र ठीक नहीं है। अगर संगीत सोम पर मीट के कारोबार के आरोप ठीक हैं तो फिर उन्हें कोई हक नहीं है कि वह ऐसे संवेदनशील विषय पर कोई बात कहें। उन्होंने कहा कि यह बेहद दुर्भाग्य की बात है कि राजनीति में नेता दोहरे चरित्र का आचरण करते हैं। जो लोग शीशे के घरों में रहते हैं उन्हें कोई हक नहीं कि वह दूसरे के घरों पर पत्थर फेंके। उन्होंने कहा कि इस मामले की उच्च स्तरीय जांच से राजनेताओं का असली चेहरा सामने आ जाएगा। जो बेहद जरूरी है।

Pin It