सम्मान पाना है तो, सहनशीलता का ताज उतार फेकना होगा: अपर्णा यादव

छात्राओं को पुलिस सहायता 100 नम्बर व वूमेन पॉवर 1090 की दी जानकारी

महिलाओं के अधिकार संबंधित कानून के प्रति किया जागरूक

 4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
Captureलखनऊ। समाज ने हमें सहनशीलता व शर्मीलेपन का ताज पहना दिया है जिसे उतार फेकना होगा। अपने इरादे को मजबूत कीजिए और दृढ़ संकल्प लीजिए कि अब हम अपने ऊपर हो रहे किसी भी तरह के अपराध का डटकर मुकाबला करेंगे और समाज में महिलाओं के प्रति गलत निगाह रखने वाले लोगों को मुहतोड़ जवाब देंगे।
उक्त बातें सामाजिक संस्था ‘बी अवेयर फाउंडेशन’ की संरक्षिका समाजसेवी अपर्णा यादव ने राजधानी के राय उमानाथ बाली प्रेक्षागृह में आयोजित महिला सुरक्षा एवं अधिकार विषय पर आयोजित सेमिनार में कही।
उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति जन्म से ही कुछ अधिकार लेकर आता है। चाहे वह जीने का अधिकार हो या विकास के लिए अवसर प्राप्त करने का। इस पुरुष प्रधान समाज में महिलाओं के साथ लैंगिक आधार पर किए जा रहे भेदभाव की वजह से महिलाएं इन अधिकारों से वंचित रह जाती हैं। इसी विचार के चलते महिलाओं के अधिकारों को सुनिश्चित करने हेतु हमारे संविधान में अलग से कानून बनाए गए हैं और समय-समय पर इनमें संशोधन भी किया गया है, जिसको हमें जानना बहुत जरूरी है और जानकर अमल करना उससे कहीं ज्यादा जरूरी है।
सेमिनार में लखनऊ मॉल एवेन्यू स्थित चिल्ड्रेन्स एकेडमी कॉलेज के स्टूडेन्ट्स और टीचर्स ने बढ़-चढक़र हिस्सा लिया। सेमिनार में अपर्णा यादव ने ‘बी अवेयर’ का अर्थ समझाते हुए कहा कि हमारा उदेश्य महिलाओं को उनकी सुरक्षा एवं अधिकार के प्रति जागरूक करना है। उन्होंने महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराधो की वजह का जिक्र करते हुए कहा कि सामाजिक लोक लज्जा, आत्मबल और आत्म सुरक्षा की कमी, पुलिस का डर और कानून की जानकारी न होना, येे ऐसी प्रमुख बाते है जो महिलाओं को अपराध सहने के लिए मजबूर करती है। हम इन सभी बातों को संजीदगी से समझे और डटकर मुकाबला करें तो निश्चित रूप से अपराध पर अंकुश लग सकेगा। उन्होंने छात्राओं को स्वयं की सुरक्षा के लिए मार्शल आर्ट सीखने के लिए प्रेरित किया।

Pin It