समाजवादी नेताओं का बनेगा म्यूजियम

यूपी कैबिनेट की बैठक में 39 बिन्दुओं पर हुई गहन चर्चा
पट्टे की जमीन पर दलितों को मालिकाना हक देने की मंजूरी

4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने धनतेरस पर कैबिनेट की मीटिंग बुलाई, जिसमें पहली Captureबार कैबिनेट में शामिल मंत्रियों की मौजूदगी में विकास और सुशासन से संबंधित 39 बिन्दुओं पर चर्चा हुई। इसमें सबसे प्रमुख दलितों को पट्टे की जमीन पर मालिकाना हक देने, 40 करोड़ रुपये का इनोवेशन फंड बनाने, राजस्व संहिता बिल 2015, इटावा की जसवंतनगर तहसील को मॉडल तहसील बनाने, डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में नई लैब बनाने और राज्य जैव ऊर्जा बोर्ड बनाने, समाजवादी नेताओं का म्यूजियम बनाने समेत कई प्रस्तावों पर मुहर लगा दी गई।
मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में सबसे पहले सबको धनतेरस और दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं दीं। इसके बाद कैबिनेट में शामिल सभी नये और पुराने मंत्रियों को अपने-अपने विभागों में बेहतर और गुणवत्तापरक काम करने तथा जनता के बीच अपनी उपस्थिति दर्ज कराते रहने का काम ईमानदारी से करने को कहा है। उन्होंने कहा कि सरकार खाद्य सुरक्षा नियम को प्रदेश में लागू करेगी। प्रदेश में होने वाले नये कार्यों को बढ़ावा देने के मकसद से इनोवेशन फंड बनाया जायेगा। जिसमें करीब 40 करोड़ धनराशि मौजूद रहेगी।बिहार के चुनाव परिणामों पर बोलते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि जो सरकार जनता के बीच रहती है, उसी को जनता दोबारा सरकार बनाने का मौका देती है। इस दौरान हाल ही में कैबिनेट में शामिल कमाल अख्तर, साहब सिंह सैनी, विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह, बलवंत सिंह रामूवालिया समेत अन्य मंत्री शामिल थे। इसके अलावा शिवपाल सिंह यादव, आजमखान, पारसनाथ यादव, राजेन्द्र चौधरी, गायत्री प्रजापति समेत कैबिनेट के लगभग सभी सदस्य उपस्थित थे। वहीं कैबिनेट की बैठक में राजा भैया के नहीं आने पर उम्मीद जताई जा रही है कि वो पार्टी से नाराज चल रहे हैं। इसी वजह से कैबिनेट की बैठक में नहीं आये।

Pin It