सभी को श्रीराम के आदर्शों को जीवन में उतारने की जरूरत: राम नाईक

धूम-धाम से मनाया गया बुराई पर अच्छाई की जीत का त्यौहार

Capture4पीएम न्यूज़ नेटवर्क
लखनऊ। बुराई पर अच्छाई की जीत का त्यौहार दशहरा धूम-धाम से मनाया गया। शहर में अलग-अलग स्थानों पर रावण का पुतला दहन किया गया। दुर्गा पूजा पंडालों और मेले में भक्तों की भयंकर भीड़ जुटी रही। पुलिस और प्रशासन की तरफ से सुरक्षा व्यवस्था भी चुस्त-दुरुस्त रही। राज्यपाल राम नाईक ने ऐशबाग रामलीला कार्यक्रम में शिरकत की और लोगों को दशहरा की हार्दिक बधाई देने के साथ ही राम के चरित्र को जीवन में उतारने की सलाह भी दी।
ऐशबाग रामलीला मैदान पहुंचे राज्यपाल ने कहा कि श्रीराम हर युग में प्रासंगिक हैं। उनके मूल्यों को अपने जीवन में उतारना चाहिए। राम और लक्ष्मण के चरित्र की सराहना करते हुए उन्होंने सभी को उसे अपने जीवन में उतारने को कहा। इस कार्यक्रम में लालजी टंडन ने कहा कि लक्ष्मण की राजधानी लखनऊ में दशहरा का भव्य आयोजन एक संस्कृति की पहचान है। वहीं, मेयर दिनेश शर्मा ने कहा कि श्रीराम का चरित्र जिसने अपने जीवन में उतार लिया वो धन्य हो गया। इसलिए सभी को उनका अनुसरण करना चाहिए। इसके बाद रावण का वध कर बुराई पर अच्छाई की जीत के जयकारे लगाए गए। सैकड़ों की संख्या में जुटकर लोगों ने जय श्रीराम के नारे लगाये।
इसी प्रकार जिले की अनेको रामलीला और दुर्गा पूजा कमेटियों ने गुरुवार की रात रावण का पुतला दहन किया। ऐशबाग, आरडीएसओ, अलीगंज, कपूरथला, जानकीपुरम, महानगर, चिनहट और गोमतीनगर समेत कई स्थानों पर लोगों ने रावण का पुतला जलाया। लंबे युद्ध के बाद बुराई के प्रतीक रावण का भगवान राम ने जैसे ही तीर चलाकर अंत किया, चारों तरफ श्रीराम और राम भक्त हनुमान के नारे गूंज उठे। इसी के साथ लोगों ने एक-दूसरे को गले लगाकर विजयदशमी पर्व की शुभकामनाएं दीं। घरों में छोटे बच्चों ने अपने बड़ों से हमेशा विजयी होने का आशीर्वाद लिया। राजधानी के ऐशबाग स्थित रामलीला मैदान में रावण दहन के आयोजन को देखने के लिए हजारों की तादाद में लोग उमड़ पड़े। यहां भगवान का शृंगार कर राम-रावण युद्ध की आकर्षक झांकी सजाई गई। इसके बाद राम ने रावण का नाश कर दिया। इस कार्यक्रम में राज्यपाल राम नाईक भी मौजूद रहे।

Pin It